CRM in hindi & types of CRM in hindi & its advantage & process

CRM (customer relationship management) in hindi:-

जैसा कि CRM का नाम है customer relationship management अर्थात् ‘अपनी कंपनी के customer के साथ रिलेशनशिप को मैनेज करना.’

आसान शब्दों में कहें तो “customer relationship management का तात्पर्य ग्राहकों के साथ संबंध को बेहतर बनाने से है जिससे कि ग्राहक वापस सामान खरीदते रहें तथा जिसका लाभ यह होगा कि हमारा बिज़नस grow करेगा.”

ग्राहक से संबंध बेहतर बनाने के लिए हमें उन्हें बेहतर सुविधायें देनी पड़ेंगी.

customer relationship management की जो समीकरण है वह इस प्रकार है.

[CRM = customer understanding + relationship management]

CRM  सॉफ्टवेर के द्वारा कोई भी कंपनी अपने कस्टमर के साथ contact कर सकती है.

customer relationship management जो है वह प्रत्येक कस्टमर के साथ हुए इंटरेक्शन, बिक्री, तथा behavior को track करती है तथा उनका रिकॉर्ड रखती है.customer relationship management के प्रयोग द्वारा आसानी से बिज़नस की performance तथा growth को आसानी से measure कर सकते है.

customer relationship management के द्वारा कस्टमर को बेहतर सेवायें प्रदान की जाती है तथा जिससे कि वह उस कंपनी से जुड़ा रहता है जिससे कि कंपनी की gross sale बढती है.

CRM process in hindi:-

अब हम यहाँ पर customer relationship management की पूरी प्रक्रिया की बात करेंगे. इसकी पूरी प्रक्रिया में निम्नलिखित पद होते है.

1:- डेटा को एकत्रित करना तथा स्टोर करना:- customer relationship management प्रक्रिया का यह सबसे पहला पद है. सबसे पहले हमें प्रत्येक ग्राहक के बारें में जानकारी को एकत्रित करना होता है तथा उस जानकारी को CRM सिस्टम में स्टोर करना होता है.

2:- customer (ग्राहक) के साथ कम्युनिकेशन:- हमने जितने भी ग्राहकों की सूचना एकत्रित की है उन सभी के साथ कम्यूनिकेट किया जाता है.
सबसे पहले हम उन्हें thank you   या welcome का मैसेज भेजकर इसकी शुरुवात कर सकते है. तथा इसके बाद उन्हें जो प्रोडक्ट ज्यादा suit करता है उसके मैसेज भेजे जाते है.
यहाँ नोटिस करने वाली बात यह है कि जितने भी ग्राहकों से हमने कम्यूनिकेट किया है उनमें से कुछ ही ग्राहक ही सामान खरीदते है तथा बाकी के और ग्राहकों से हमारे रिश्तें बेहतर होते है. और कंपनी की ब्रांड value बढती है.

3:- ग्राहक से व्यक्तिगत रूप से बात करना:- अर्थात अगर ग्राहक को किसी प्रोडक्ट से परेशानी है तो उस कस्टमर से लगातार बात करनी चाहिए जब तक की उसकी परेशानी दूर नहीं हो जाती है. अगर उस customer को परेशानी बार बार हो रही हो तो उसे छोड़ना नहीं चाहिए बल्कि उसे हैंडल करना चाहिए क्योंकि अगर एक कस्टमर को परेशानी हो रही है तो दूसरों को भी हो सकती है.

Types of CRM in hindi:-

इसके निम्नलिखित तीन प्रकार होते है:-

1:- operational

2:- analytical

3:- collaborative

1:- operational CRM :- यह customer relationship management कस्टमर पर केन्द्रित बिज़नस प्रक्रियाओं जैसे:- मार्केटिंग, सर्विस, तथा सेलिंग पर आधारित होता है.

Operational CRM में salesforce तथा zoho सबसे बेहतर CRM है. salesforce का प्रयोग बड़े बिज़नस में किया जाता है जबकि zoho का प्रयोग छोटे तथा विकासशील बिज़नस में किया जाता है.

operational CRM का मुख्य उद्देश्य leads को जनरेट करना, उन्हें contacts में बदलना, उनकी सभी जरुरी जानकारी इकट्ठा करना तथा कस्टमर को सर्विस उपलब्ध कराना है.

2:- analytical CRM:- यह customer relationship management(crm) कस्टमर से सम्बन्धित डेटा को इकट्ठा करना, उसको explain करना, उसको अलग करना, स्टोर करना, बदलना, प्रोसेस करना आदि पर आधारित होता है.

इसमें कस्टमर डेटा को analyze किया जाता है जिससे बिज़नस की सेल्स, मार्केटिंग तथा सर्विस को बेहतर बनाया जाता है.

3:- collaborative CRM:- इस customer relationship management(crm) में customers के साथ सीधे कम्युनिकेशन किया जाता है तथा उनके जो फीडबैक तथा मुद्दे होते है उनको सुना जाता है.
customer के साथ कम्युनिकेशन वेबसाइट, ई-मेल, फोन आदि से होता है.
इस CRM का प्रयोग organization अपने विभिन्न बिज़नस इकाइयों जैसे:- सेल्स टीम, मार्केटिंग टीम, टेक्निकल तथा सपोर्ट टीम के मध्य customer की जानकारी को साझा करने के लिए किया जाता है.

CRM के लाभ:-

इसके निम्नलिखित लाभ है:-

1:- इससे customer के साथ रिश्ते बेहतर बनते है.

2:- इससे अच्छा revenue जनरेट करने में मदद मिलती है.

3:- इससे gross sale में वृद्धि होती है.

4:- समय तथा लागत में कमी होती है.

CRM के अलावा आप को SCM तथा ERP भी पढना चाहिए वो भी इसी का एक हिस्सा है.

निवेदन:- आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें comment के माध्यम से बताइये तथा इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. धन्यवाद.

One thought on “CRM in hindi & types of CRM in hindi & its advantage & process”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *