what is case tools in hindi?

software Case tools in hindi:-

आज हम case tools के बारें में पढेंगे, सबसे पहले हम समझेंगे कि case क्या होता है? तो चलिए शुरू करते है.

CASE in hindi:-

case का पूरा नाम computer aided software engineering है, यह एक सॉफ्टवेर है जो कि सॉफ्टवेर को बनाने की प्रक्रिया में एक या एक से अधिक सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग गतिविधियों को सपोर्ट करता है.

सरल शब्दों में कहें तो, “case का मतलब है सॉफ्टवेयर को बनाने तथा maintain करने के लिए स्वचालित सॉफ्टवेर tools का प्रयोग किया जाएगा.”

सॉफ्टवेयर को विकसित करने के लिए CASE बहुत ही प्रयोग किया जाता है क्योंकि इसका जो functionality तथा पोटेंशियल है वह बहुत ही अच्छा है जिससे सॉफ्टवेयर कि क्वालिटी (गुणवत्ता) बढती है.

CASE tools in hindi:-

case tools सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन का समूह है जो कि सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट लाइफ साइकिल (SDLC) की गतिविधियों को automate (स्वचालित) कर देता है.

case tools का प्रयोग सॉफ्टवेयर इंजीनियर, सॉफ्टवेयर मैनेजर, तथा टेस्टर के द्वारा सॉफ्टवेर को विकसित करने के लिए किया जाता है.

SDLC के ज्यादातर सभी phases जैसे:- डिजाईन, टेस्टिंग, कोडिंग आदि को case tools सपोर्ट करते हैं. अर्थात् इन सभी phases में case tools प्रयोग किये जाते हैं. जो कि ये सुनिश्चित करते है कि सॉफ्टवेयर की क्वालिटी उच्च हों, उसमें कोई डिफेक्ट ना हों, तथा सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट का काम किसी भी तरह कम मूल्य और समय में हो जाएँ.

case tools का प्रयोग debugging तथा डेटा को मैनेज करने के लिए भी किया जाता है.

1980 के दशक में सबसे पहले case tools का निर्माण किया गया था.

केस टूल्स को प्रस्तावित करने का मकसद सॉफ्टवेयर को विकसित करने में लगने वाले समय तथा cost (मूल्य) को कम करना था तथा सॉफ्टवेयर की क्वालिटी को बेहतर बनाना था.

Case tools architecture

components of case tools:-

इस के components निम्नलिखित है.

1:- upper केस टूल्स
2:- lower केस टूल्स
3:- integrated केस टूल्स

1:- upper case tools:- upper केस टूल्स सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के पहले के phases में प्रयोग में आते हैं. ये tools प्लानिंग, एनालिसिस तथा डिजाईन फेज में use होते हैं.

2:- lower case tools:- ये case tools सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट के बाद के फेजों implementation, testing, तथा maintenance में प्रयोग की जाती है.

3:- integration case tools:- इसे I-CASE भी कहते है. इन टूल्स का प्रयोग SDLC की सभी phases में किया जा सकता है.

types of case tools in hindi:-

इसके प्रकार निम्नलिखित हैं:-

1:- diagramming tools:- इन tools का प्रयोग सिस्टम प्रोसेस, डेटा तथा कंट्रोल स्ट्रक्चर एवं सिस्टम कंपोनेंट्स को चित्रों के रूप में प्रस्तुत करने के लिए किया जाता है.

2:- analysis tools:- इन tools का प्रयोग डायग्राम, फॉर्म्स तथा रिपोर्ट्स को एनालिसिस करने के लिए किया जाता है.

3:- design tools:- डिजाईन टूल्स का प्रयोग सॉफ्टवेर डिजाईनरों के द्वारा सॉफ्टवेयर स्ट्रक्चर को डिजाईन करने के लिए किया जाता है.

4:- process modeling tools:– इन tools का प्रयोग सॉफ्टवेयर के प्रोसेस मॉडल को बनाने तथा बदलने के लिए किया जाता है.

5:- project management tools:- इन टूल्स का प्रयोग कोडिंग को करने के लिए किया जाता है. अर्थात ये tools सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट बनाने में सहायता करता है.

6:- quality tools:- सॉफ्टवेयर की क्वालिटी को बेहतर बनाने के लिए इन tools का प्रयोग किया जाता हैं.

7:- maintenance tools:- जब सॉफ्टवेर का निर्माण हो जाता है तब उसे maintain करने की जरुरत पड़ती है और समय के साथ साथ उसमें बदलाव भी किये जाते है. इस कार्य को करने के लिए maintenance tools का प्रयोग किया जाता है.

8:- prototyping tools:- इन टूल्स का प्रयोग सॉफ्टवेयर को नया look देने तथा उसे अच्छा style करने के लिए किया जाता है. इन tools में बहुत सारें ग्राफ़िक्स होते हैं जो कि यूजर इंटरफ़ेस तथा डिजाईन को अच्छा बना देते हैं.

निवेदन:- आपके लिए यह पोस्ट helpful रहो हो तो हमें कमेंट के द्वारा बताइए तथा इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ share करें. धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *