computer graphics in hindi types of computer graphics in hindi

Computer graphics in hindi:-

इस आर्टिकल में हम computer graphics के बारें में पढेंगे तो चलिए शुरू करते हैं?

computer graphics क्या होता है?

computer graphics (कंप्यूटर ग्राफ़िक्स) एक ऐसी कला है जिसमें इमेज, रेखा, तथा चार्ट आदि को कंप्यूटर में प्रोग्रामिंग के द्वारा बनाया जाता है.

आसान शब्दों में कहें तो, “कंप्यूटर स्क्रीन पर चित्रों को draw करना ही computer graphics कहलाता है.”

computer graphics बहुत सारें pixels से बना होता है. pixel कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देने वाली ग्राफ़िक्स की सबसे छोटी इकाई होती है.

कंप्यूटर ग्राफ़िक्स शब्द का प्रयोग सबसे पहले Verne Hudson तथा william fetter ने 1960 में किया था.

जब हम किसी कागज में कोई चित्र draw करते है तो हम उसमें पेंसिल, कलर, तथा eraser का प्रयोग करते हैं. कागज में चित्र बनाने वक्त अगर कुछ गलत हो जाता है तो हम उसे रबड़ से मिटाते है तो उसमें दाग धब्बे या काला हो जाता है तथा अगर रंग गलत लग गया तो हमें दुबारा दूसरे कागज में चित्र बनाना पड़ता है जो कि एक मुश्किल और मेहनत भरा काम है.

इसी परेशानी से बचने के लिए तथा आसानी से कोई चित्र बनाने के लिए हम computer graphics का प्रयोग करते हैं. जिसके द्वारा हम कोई भी चित्र draw कर सकते हैं. उसमें कोई भी बदलाव जैसे rotate करना, कलर swap करना, पिक्चर को शिफ्ट करना आदि बहुत सारें कार्य कर सकते हैं.

कंप्यूटर ग्राफ़िक्स का प्रयोग पेंटिंग करने, डेस्कटॉप पब्लिशिंग में, बिल्डिंग आर्किटेक्चर बनाने के लिए autocad में, गेम बनाने में, मूवी बनाने में, विज्ञानं में मौसम का पूर्वानुमान लगाने आदि में किया जाता है.

types of computer graphics in hindi:-

कंप्यूटर ग्राफ़िक्स के प्रकार निम्नलिखित है.

1:- interactive कंप्यूटर ग्राफ़िक्स

2:- non interactive कंप्यूटर ग्राफ़िक्स

1:- interactive computer graphics:– interactive कंप्यूटर ग्राफ़िक्स वह ग्राफ़िक्स होता है जिसमें ऑपरेटर तथा यूजर डिस्प्ले में दिखायी देने वाली graphical डेटा (सूचना) के साथ एक या एक से अधिक इनपुट डिवाइस के द्वारा interact कर सकता है. अर्थात् user इमेज में बदलाव कर सकता है.

इसमें यूजर तथा कंप्यूटर के मध्य two way कम्युनिकेशन होता है.

आजकल सभी वर्क स्टेशन तथा कंप्यूटर सिस्टम interactive का प्रयोग करते हैं.

इसमें, इनपुट डिवाइस के द्वारा user कंप्यूटर को request करते हैं और कंप्यूटर इनपुट डिवाइस द्वारा भेजी गयी request के अनुसार पिक्चर या इमेज को बदलता है. user इनपुट डिवाइस के द्वारा कितनी भी कमांड्स दे सकता है और कंप्यूटर उन कमांड्स के अनुसार pictures को generate करता है.

2:- non interactive computer graphics:- non interactive कंप्यूटर ग्राफ़िक्स को passive computer graphics भी कहते है.

passive कंप्यूटर ग्राफ़िक्स वह ग्राफ़िक्स होता है जिसमें कंप्यूटर पर दिखाई देने वाली पिक्चर या इमेज पर user का किसी भी प्रकार का नियन्त्रण नहीं होता है अर्थात इसमें यूजर pictures के साथ interact नही कर सकता है.

user केवल कंप्यूटर पर इमेज को देख सकता है उसमें कोई बदलाव नहीं कर सकता है.

इसमें user तथा कंप्यूटर के मध्य केवल one way कम्युनिकेशन होता है.

इसे पढ़ें:- transmission mode क्या होता है?

निवेदन:- अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो हमें कमेंट के द्वारा बताइए तथा इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. धन्यवाद.

4 thoughts on “computer graphics in hindi types of computer graphics in hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *