ENIAC in hindi, first generation computer

ENIAC in hindi:-

आज हम ENIAC (एनिअक) क्या है तथा इसके लाभ तथा हानियाँ क्या है इसके बारें में पढेंगे तो चलिए शुरू करते है?

इसका पूरा नाम electronic numerical integrator and computer (इलेक्ट्रॉनिक नुमेरिकल integrator and computer) है. यह first जनरेशन कंप्यूटर है.

ENIAC दुनिया का पहला general purpose कंप्यूटर था. इसका अविष्कार J. presper eckert तथा john mauchly ने pennsylvania की यूनिवर्सिटी में किया था. इसे यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी के लिए बनाया गया था जो उनकी artillery (तोपखाने) की फायरिंग टेबल को कैलकुलेट करता था.

ENIAC

एनिअक का वजन 30 टन था, जो कि 200 किलोवाट विधुत शक्ति का प्रयोग करता था. तथा यह 18,000 वैक्यूम ट्यूब, 1500 relays से बना था. तथा इसमें हजारों की संख्या में resistors (प्रतिरोध), capacitors (संधारित्र), एवम् inductors (प्रेरक) लगे हुए थे. यह 1800 वर्ग फीट जगह घेरता था. इसकी कीमत लगभग सवा 3 करोड़ रूपये थी.

ENIAC का सबसे पहला प्रयोग दूसरे विश्व युद्ध में हाइड्रोजन बम के निर्माण हेतु उसकी कैलकुलेशन करने के लिए किया गया था.

बाद में इसका प्रयोग मौसम का पूर्वानुमान, cosmic-ray के अध्ययन में, random नंबर के अध्ययन में, तथा अन्य वैज्ञानिक कार्यों के लिए किया जाता है तथा इसका प्रयोग कठिन गणितीय परेशानियों को हल करने में, इंजीनियरिंग में तथा physics की परेशानियों को हल करने में भी किया जाता था. परन्तु इसकी speed बहुत ही धीमी होने के कारण इसका प्रयोग करना बंद हो गया.

ENIAC के बारें में रोचक तथ्य:-

1:- ENIAC जो है वह गणितीय तथा ट्रान्सफर ऑपरेशनों को एक साथ एक ही समय पर करता था.

2:- किसी नयी परेशानी को हल करने के लिए, ENIAC को सेट अप करने में बहुत ज्यादा समय लगता था.

3:- ENIAC अन्य सभी कंप्यूटरों के लिए एक आदर्श है जिसे देखकर ही अन्य कंप्यूटरों का निर्माण हुआ है.

4:- इसमें एक भी transistors का प्रयोग नहीं किया गया था क्योंकि उस समय इनका अविष्कार नहीं हुआ था. transistors के स्थान पर वैक्यूम ट्यूब का प्रयोग किया गया था.

ENIAC का इतिहास:-

ENIAC का निर्माण 1946 में हुआ था. यह दुनिया का पहला कंप्यूटर जो गणितीय ऑपरेशनों को बहुत ही तेज गति से कर सकता था.

एनिअक एक सीक्रेट मिलिट्री प्रोजेक्ट था.

1953 में, 100-word मैग्नेटिक कोर मैमोरी को ENIAC में जोड़ दिया गया. जिसे Burraughs कारपोरेशन ने बनाया था. इसे जोड़ने से इसकी मैमोरी क्षमता बढ़ गयी.

1996 में ENIAC की 50वीं वर्षगाठ बनायीं गयी. इसे अब वाशिगटन डी.सी. में Smithsonian institution में दिखाया जाता है.

ENIAC के लाभ:- इसके लाभ निम्नलिखित है:-

1:- यह कंप्यूटर बहुत ही तेज था तथा डेटा को miliseconds में कैलकुलेट कर देता था.

2:- यह सूचना को स्टोर कर सकता था.

3:- इसमें vacuum tubes का प्रयोग किया जाता था. जो कि सस्ते मिल जाते थे.

4:- इसमें स्पर्श संवेदनशीलता (toctic sensitivity) संरक्षित रहती थी.

5:- यह color coded होता था जिससे readings को आसानी तथा तेजी से identify कर लिया जाता था.

ENIAC की हानियाँ:- इसकी हानियाँ निम्नलिखित है:-

1:- इस कंप्यूटर का आकार बहुत ही बड़ा था.

2:- यह बहुत ही अधिक बिजली लेता था.

3:- यह बहुत जल्दी गर्म हो जाता था. क्योंकि इसमें हजारों vacuum tubes लगी हुई थी.

4:- यह विश्वसनीय नहीं था.

5:- इसमें air conditioning की जरुरत पड़ती थी.

6:- यह portable नहीं था.

7:- यह केवल मशीनी भाषा का प्रयोग करता था.

8:- लगातार maintenance करना पड़ता था.

9:- इसकी प्रोग्रामिंग क्षमता limited थी.

निवेदन:- आपको यह पोस्ट कैसी लगी मुझे कमेंट के द्वारा बताइए तथा इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. धन्यवाद.

One thought on “ENIAC in hindi, first generation computer”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *