jk master-slave flip flop in hindi

hello दोस्तों आज हम इस पोस्ट में what is jk master-slave flip flop in hindi (जेके मास्टर स्लेव फ्लिप फ्लॉप क्या है?) के बारें में पढेंगे. मैंने इससे पहले अन्य flip flops के बारें में बताया है आप उसे भी पढ़ लीजियेगा.

पढ़ें:- flip flop क्या है तथा इसके प्रकार क्या है? 

jk master-slave flip flop पढने से पहले हम race around condition के बारें में पढेंगे.

race around condition in hindi

JK फ्लिप-फ्लॉप में J=K=1 होने पर फ्लिप-फ्लॉप की आउटपुट संदिग्ध और अनिश्चित (ambiguous) होती है. यह race around condition के कारण होता है. इस condition में AND gates को फीडबैक किये गये आउटपुट की state में परिवर्तन के कारण clock pulse की अवधि (duration) में फ्लिप-फ्लॉप में दोलन की स्थिति (oscillatory condition) उत्पन्न हो जाती है. इसलिए जब clock pulse (CP) समाप्त होती है तब आउटपुट कुछ भी (arbitrary) हो सकती है.तथा यह केवल फ्लिप फ्लॉप में propagation delay तथा clock pulse की अवधि पर निर्भर करती है.

JK master-slave flip flop in hindi (JK मास्टर-स्लेव फ्लिप-फ्लॉप)

jk master-slave flip flop in hindi
figure

उपर दिए गये चित्र में JK master slave flip flop का ब्लॉक डायग्राम दिया गया है. यह परिपथ flip flop को race around conditions से रोकने का उपाय है. इस परिपथ में दो फ्लिप-फ्लॉप प्रयुक्त किये जाते है. एक मास्टर (master) तथा दूसरा slave.

master एक positive edge triggered तथा slave एक negative edge triggered फ्लिप-फ्लॉप होता है. इसलिए master flip flop, slave flip flop से पहले इनपुट J तथा K पर प्रचालित (operate ) हो जाता है.

यदि j =1 तथा K =0 है तब master पॉजिटिव clock edge पर SET हो जाता है तथा इसकी (master flip flop की) ‘HIGH’ आउटपुट (Q), slave flip flop की J इनपुट को drive करती है. इसी प्रकार जब नेगेटिव clock edge आती है तब master की भांति slave SET हो जाता है.

यदि J =0 तथा K =1 तब master flip flop, क्लॉक पल्स की leading edge पर RESET हो जाता है. master की ‘HIGH’ Q’ आउटपुट slave की K इनपुट को drive करती है. इसलिए clock pulse की trailing edge पर slave RESET हो जाता है. slave, इस क्रिया को master की भांति करता है.

यदि master की इनपुट J=K=1 अर्थात् J तथा K दोनों HIGH है तब यह पॉजिटिव clock edge पर टॉगल (toggle) करता है. तथा slave, नेगेटिव clock edge पर toggle करता है.

इस प्रकार प्रत्येक स्थिति में slave, master की copy करता है अर्थात यदि मास्टर SET होता है तो slave भी SET होता है यदि मास्टर RESET होता है तब slave भी RESET होता है.

निवेदन:- उम्मीद है कि यह पोस्ट आपको अच्छी लगी होगी अगर आपको अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share करें तथा अपने सवाल कमेंट के द्वारा बताइए धन्यवाद.

Leave a Comment