instruction set in hindi – इंस्ट्रक्शन सेट क्या है?

Hello दोस्तों, आज मैं आपको इस पोस्ट में what is instruction set in Hindi (microprocessor 8085 में इंस्ट्रक्शन सेट क्या है?) के बारें में पूरे विस्तार में बताऊंगा तो चलिए start करते है:-

Instruction set in Hindi

instruction एक command होती है जिसे computer को एक विशिष्ट operation को perform करने के लिए दिया जाता है. microprocessor में instruction set, निर्देशों का एक समूह होता है जिसे माइक्रोप्रोसेसर execute करता है.

दूसरे शब्दों में कहें तो, “उन सभी instructions का समूह जिन्हें माइक्रोप्रोसेसर support करता है उसे instruction set कहते हैं.”

8085 के पास 246 instructions हैं. और प्रत्येक इंस्ट्रक्शन 8 bit बाइनरी वैल्यू के द्वारा represent (प्रस्तुत) होती है. बाइनरी वैल्यू की इन 8 bits को opcode या instruction byte कहते है.

8085 में instructions के निम्नलिखित 5 groups होते हैं:-

  1. Data transfer instructions
  2. Arithmetic instructions
  3. Logical instructions
  4. Branching instructions
  5. machine Control instructions

Data transfer instructions in Hindi

इन instructions का प्रयोग data को एक register से दूसरे register में, और memory से register में या register से memory में ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है. और इसमें source register के contents में कोई बदलाव नहीं आता है.

नीचे आपको data transfer instructions के बारें में बताया गया है:-

MOV- यह इंस्ट्रक्शन source register के content को destination register में copy करता है. example:- MOV B, C.

MVI- यह data को जल्दी से register या memory में move कर देता है. उदाहरण:- MVI A, 57H.

LXI- यह इंस्ट्रक्शन, 16-bit डाटा को register pair में load करता है. उदाहरण:- LXI H, 2034 H.

LDA- यह load accumulator instruction है. इसका प्रयोग memory address में उपस्थित data को accumulator में ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है. ex:- LDA 1000H.

LDAX- यह load accumulator indirect instruction है. यह memory location के content को accumulator में load कर देता है. ex:- LDAX B.

LHLD- इसका मतलब है:- load H-L registers direct instruction. इसके द्वारा operand में specify हुए address में उपस्थित data को L register में copy किया जाता है. और इसके साथ साथ अगली memory में उपस्थित data को H register में load किया जाता है:- उदाहरण:- LHLD 4500H.

STA- STA का मतलब stored accumulator direct instruction है. जब भी यह इंस्ट्रक्शन pass होता है तब accumulator में उपस्थित डेटा, memory address को ट्रान्सफर हो जाता है. ex:- STA 2032H.

STAX register- यह stored accumulator indirect instruction है.

XCHG- इसका प्रयोग दो registers में उपस्थित data को exchange करने के लिए किया जाता है. इसमें H-L को D-E के साथ exchange किया जाता है. अर्थात् register H के contents को register D के contents के साथ exchange करना. और रजिस्टर L के contents को रजिस्टर E के contents के साथ exchange करना. ex:- XCHG.

SPHL- यह इंस्ट्रक्शन HL pair के data को stack pointer में ट्रान्सफर करता है.

PCHL- SPHL की तरह ही, यह भी H-L register को stack pointer में copy करता है. इसमें उच्च क्रम के bytes को H में डाला जाता है और निम्न क्रम के bytes को L में डाला जाता है.

PUSH- इसमें, register में उपस्थित data को stack में load किया जाता है. सबसे पहले SP decrement होता है. और उच्च क्रम के bytes इसमें copy होते है. इसी प्रकार यह निम्न क्रम के bytes के लिए भी decrement होता है. example:- PUSH C,

POP- यह इंस्ट्रक्शन, stack के top पर स्थित data का register में ट्रान्सफर को specify करता है. example:- POP D.

OUT- इसके द्वारा accumulator में स्थित data को I/O port में copy किया जाता है. example:- OUT 56H.

IN- यह I/O port में स्थित डाटा के accumulator में load होने को specify करता है. ex:- IN, 5B H.

instruction set in hindi
इमेज सोर्स

Arithmetic instructions in Hindi

इस group के instructions अंकगणितीय कार्यों को परफॉर्म करते है जैसे:- जोड़ना, घटाना, increment, decrement.

ADD- यह register या memory के contents को accumulator के contents में add करता है. example:- ADD B या ADD M.

ADC- यह register या memory और Carry Flag (CY) के contents को accumulator के contents में add करता है. ex:- ADC B या ADC M.

ADI- यह 8 bit डाटा को accumulator के contents में add करता है. example- ADI 45H.

ACI- 8-बिट डेटा और carry-flag (CY) को accumulator के contents में जोड़ देता है. उदाहरण:- ACI 45H.

DAD- यह register pairs के 16 बिट डेटा को H-L pair के contents में add कर देता है. ex:- DAD B.

SUB- इसके द्वारा रजिस्टर या मैमोरी लोकेशन के content को accumulator के कंटेंट से घटा दिया जाता है. ex:- SUB B या SUB M.

SBB- रजिस्टर या मैमोरी लोकेशन और borrow flag के कंटेंट को accumulator के कंटेंट घटा दिया जाता है. ex:-SBB B या SBB M.

SUI- इसका प्रयोग दिए गये data को accumulator के data में से जल्दी से substract करने के लिए किया जाता है. example:- SUI 55H.

SBI- यह इंस्ट्रक्शन 8-bit डेटा और borrow flag को accumulator के data में से substract कर देती है. ex:- SBI 45H.

INR- इसके द्वारा register और memory location के data को 1 से increment कर दिया जाता है. ex:-INR B या INR M.

INX- register pair के डेटा को 1 से increment कर दिया जाता है. ex:-INX H.

DCR- यह register और memory location के डेटा को 1 से decrement कर देता है. ex:- DCR B या DCR M.

DCX- यह register pair के डेटा को 1 से decrement कर देता है. ex:-DCX H.

logical instructions in Hindi

इन instruction set का प्रयोग रजिस्टर या मैमोरी में स्टोर डेटा में logical और boolean ऑपरेशनों को perform करने के लिए किया जाता है. जैसे:- AND, OR, compare, rotate आदि.

CMP R/M- इस instruction का प्रयोग रजिस्टर या मैमोरी में स्टोर डेटा को accumulator में स्टोर data के साथ compare करने के लिए किया जाता है.

CPI- इस इंस्ट्रक्शन का प्रयोग 8 bit data को accumulator में उपस्थित data के साथ compare करने के लिए किया जाता है.

ANA R/M- इस इंस्ट्रक्शन का प्रयोग अक्कुमुलेटर में उपस्थित data में AND ऑपरेशन को परफॉर्म करने के लिए किया जाता है. ex:-ANA D.

ANI;- यह register और memory में दिए गये immediate 8 bit data में and operation को परफॉर्म करता है. ex:-ANI 65H.

ORA R/M:- यह इंस्ट्रक्शन अक्कुमुलेटर के data में OR ऑपरेशन को पूरा करता है. ex:-ORA B.

ORI:- इसमें, अक्कुमुलेटर का डेटा 8 bit डेटा के साथ logically OR होता है. ex:-ORI 86H.

XRA R/M- यह इंस्ट्रक्शन अक्कुमुलेटर के data और register या memory में उपस्थित data के साथ XOR operation को परफॉर्म करता है.

XRI:- इसका उपयोग, operand के रूप में दिए गये 8 bit data में तथा अक्कुमुलेटर के डेटा में XOR operation को पूरा करने के लिए किया जाता है.

RLC- इसका प्रयोग अक्कुमुलेटर के bits को rotate करने के लिए किया जाता है. इसका प्रयोग bit को बाएं से एक position rotate करने के लिए किया जाता है.

RRC- इसका प्रयोग bit को दायें से एक position rotate करने के लिए किया जाता है.

STC- यह carry flag को 1 पर set कर देता है. और इसका दूसरे flags पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है.

CMA- इसका प्रयोग अक्कुमुलेटर के data का complement उत्पन्न करने के लिए किया जाता है.

CMC- इसका प्रयोग carry flag के data का complement उत्पन्न (generate) करने के लिए किया जाता है.

Branching instruction in Hindi

इस प्रकार के instruction set का प्रयोग control को एक position से दूसरे position में ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है.

JMP:- इस इंस्ट्रक्शन का प्रयोग program sequence को memory location को ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है. ex:-JMP 2020H.

Jx- यह इंस्ट्रक्शन condition branching के अंतर्गत आता है, इसमें program sequence को एक विशेष location में ट्रान्सफर किया जाता है. परन्तु यह ट्रान्सफर PSX flag पर निर्भर करता है. ex:-JZ 2034 H.

CALL:- यह इंस्ट्रक्शन, program sequence का कंट्रोल operand में दिए गये memory address को transfer करता है. ex:-CALL 3400H.

RET:- इसके द्वारा program sequence का ट्रान्सफर subroutine से calling program को हो जाता है..

RST:- इस इंस्ट्रक्शन का प्रयोग sequence को main program से interrupt service routine में ट्रान्सफर करने के लिए किया जाता है.

इसे पूरा पढने के लिए क्लिक करें:- machine control instructions क्या हैं?

निवेदन:- अगर आपको (इंस्ट्रक्शन सेट क्या है) का यह article पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके पास कंप्यूटर आर्किटेक्चर तथा microprocessor को लेकर कोई question है तो आप उसे comment के माध्यम से जरुर पूछिए. thanks.

Leave a Comment