EIGRP प्रोटोकॉल क्या है और इसकी Tables, Packets

Hello दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में What is EIGRP in Hindi के बारें में पढेंगे और इसकी tables तथा packets के बारें में पढेंगे. इसे आप पूरा पढ़िए, आपको यह आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

What is EIGRP in Hindi

EIGRP का पूरा नाम Enhanced Interior Gateway Routing Protocol है. यह एक dynamic routing protocol है जिसका प्रयोग दो layer 3 device के मध्य सबसे best path को find करने के लिए किया जाता है.

यह एक distance vector routing protocol भी है जिसका प्रयोग computer network पर routing decisions और configuration को automate (स्वचालित) करने के लिए किया जाता है.

EIGRP एक Cisco proprietary protocol है, यानि यह सिर्फ Cisco routers पर ही काम करता है। इसे Hybrid routing protocol भी कहा जाता है। ये protocol distance vector और link state routing protocols के features को combine करके बनाया गया है।

EIGRP, OSI Model के network layer protocol पर कार्य करता है और यह protocol number 88 का इस्तेमाल करता है. यह metric का प्रयोग layer 3 device के मध्य best path को खोजने के लिए करता है.

Characteristics of EIGRP in Hindi – इसकी विशेषताएं

इसकी विशेषताएं नीचे दी जा रही हैं:-

  • यह एक classless protocol है। यह VLSM को support करता है।

  • इसमें Metric को calculate करने के लिए bandwidth और delay की composite key को इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही यह दूसरे parameters को भी support करता है जिससे metric calculate की जाती है। जैसे कि- Reliability, Load और MTU आदि।

  • इसमें DUAL (Diffusing Update Algorithm) का इस्तेमाल किया जाता है. यह algorithm नेटवर्क में loop free environment भी create करती है।

  • इसमें packets या तो unicast की तरह भेजे जाते है, या फिर multicast के रूप में भेजे जाते है।

  • इसमें Packets की delivery सुनिश्चित करने के लिए Reliable Transport Protocol (RTP) प्रयोग किया जाता है।

  • EIGRP कई तरह के दूसरे protocols को support करता है। जैसे की IP, IPX और Apple Talk आदि।

  • Default रूप से इसमें loop count की संख्या 100 होती है परन्तु हम इसे adjust करके loop count की संख्या को 224 तक बढ़ा सकते है.

इसे पढ़ें:-

EIGRP Tables in Hindi

EIGRP Routers तीन अलग-अलग tables को maintain करते हैं. इनके बारें में नीचे दिया जा रहा है.

Neighbor Table

इस table में सभी neighbor routers की list होती है। ये सभी neighbors एक ही autonomous system से होने चाहिए। जब भी किसी नए neighbor को detect किया जाता हैं तो उसकी entry इसी table में की जाती है। Packets की reliability और sequence delivery के लिए यह tables इस्तेमाल की जाती है। Neighbor routers की information hello packets के द्वारा मिलती है। नीचे neighbor table के कुछ fields दिए जा रहे है।

  • H Handle – ये वो order होता है जिसमे neighbor table बनी होती है। पहले router के लिए इस field की value 0 होती है और दूसरे router के लिए 1 होती है। इसी प्रकार आगे आने वाले routers के साथ साथ ये numbers भी बढ़ते जाते है।

  • Address – इस field में neighbor router का IP address होता है।

  • Interface – इस field में उस interface को बताया जाता है जिसके द्वारा neighbor कनेक्ट होते है।

  • Hold Time – यह timer बताता है कि यदि किसी neighbor से hello packet को receive नहीं किया गया है तो उसे कब तक table में store करना है। By default इसकी value 15 होती है।

  • Up time – यह field show करता है की neighbor कब से alive (जीवित) हैं।

  • SRIT – यह smooth round trip time होता है। ये वो time होता है जो एक packet को neighbor तक पहुँचने और वापस acknowledgment आने में लगता है।

  • RTO – यह re-transmission timeout होता है। किसी packet को दुबारा भेजने से पहले router जितनी देर wait करता है, ये वही time होता है।

  • Q Cnt – यह Queue Count होता है। यह filed बताता है कि कितने packets ट्रांसमिट होने का wait कर रहे है।

  • Seq Number – यह neighbor से receive किये गए अंतिम packet का sequence number होता है।

Topology table

इस table में Autonomous system के सभी routes की list होती है। यानि कि वो सभी paths जो autonomous system में neighbors ने learn किये है। यह table सभी EIGRP routers पर समान होती है। इस table के कुछ fields के बारे में नीचे दिया जा रहा है।

  • P – इसका मतलब passive होता है। इसका मतलब होता है कि राऊटर route को लगातार नहीं खोज रहा है। इसका मलतब ये होता है कि ये अच्छी situation में है। यदि passive की जगह active होता है तो उसका मतलब होता है कि network में गड़बड़ है।

  • FD – यह फील्ड feasible distance होता है। यह destination तक पहुँचने के लिए metric होती है। ये current router से destination तक की पूरी distance होती है।

Routing table

इसमें हर destination network के लिए एक बेहतर route को store किया जाता है। इस table के कुछ fields नीचे explain किये जा रहे है।

  • D – इसका मतलब होता है कि यह route, EIGRP के द्वारा पाया गया है।

  • via IP – जिस neighbor ने route को advertise किया यह उसका IP address होता है.

EIGRP packets in Hindi

जैसा कि आप जानते है EIGRP protocol तीन तरह की tables को maintain करता है। इन tables को बनाने के लिए EIGRP routers पैकेट्स के द्वारा updates को receive और send करते है।

EIGRP में 5 तरह के packets पाये जाते है। इनके बारे में नीचे explain किया जा रहा है।

  • Hello packets – ये पैकेट्स neighbor table को build करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है। ये packets हमेशा 224.0.0.10 address पर multicast किये जाते है।

  • Update packets – ये पैकेट्स topology और routing tables को build करने के लिए neighbors के बीच में भेजे जाते है। ये पैकेट्स unicast के तौर पर भेजे जाते है। लेकिन यदि metric change हो जाती है तो ये पैकेट्स multicast address पर भेजे जाते है।

  • Query packets – जब कोई route fail होता है और उसका कोई backup route नहीं होता है तो query packets भेजे जाते है। Router इस fail हुए route को active state में डाल देता है और इसके neighbors से alternative (वैकल्पिक) route के लिए query की जाती है।

  • Reply packets – ये पैकेट्स query packets के response में भेजे जाते है। ये पैकेट्स unicast के रूप में भेजे जाते है। Respond करने वाला राऊटर वैकल्पिक route प्रदान करता है।

  • Acknowledgment packets – ये पैकेट्स hello packets ही होते है। इनमे कोई data नहीं होता है सिर्फ acknowledgment number होते है। ये delivery verification response packets होते है।

Reference:- https://en.wikipedia.org/wiki/Enhanced_Interior_Gateway_Routing_Protocol

eigrp in hindi

निवेदन:- अगर आपके लिए यह आर्टिकल उपयोगी रहा हो तो इसे अपने friends और classmates के साथ अवश्य share कीजिये. और आप नीचे comment करके भी बता सकते हैं. Thanks.

Leave a Comment