सिंगल यूजर और मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में Single user & Multi user operating system in Hindi (सिंगल यूजर और मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?) के बारे में पढेंगे. मैंने इसे बहुत ही सरल भाषा मे लिखा है. आप इसे पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा.

Single User Operating System in Hindi सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

  • वह operating system जिसमें एक समय में केवल एक user ही काम कर सकता है उसे single user operating system कहा जाता है। उदाहरण के लिए – DOS, Windows 3x, Windows 95, 97, 98.

  • Single user ऑपरेटिंग सिस्टम के द्वारा एक time पर कोई एक ही user अपने कार्य को पूरा कर सकता है।

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम का ज्यादातर प्रयोग मोबाइल फोन में किया जाता है।

  • इसका इस्तेमाल सामान्य रूप से घरो मे रखे computer के रूप में किया जाता है।
single user operating system in hindi
सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम का चित्र

Types Of Single User Operating System in Hindi – सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

इसके दो प्रकार होते है –

  1. single user single task
  2. single user multi task

Single user single task operating system in Hindi – सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

  • जब किसी ऑपरेटिंग सिस्टम मे कोई एक user केवल एक ही task (कार्य) पूरा करता है तो उसे सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम कहते है|

  • मतलब की single user operating system वाले कंप्यूटर को अगर हम कोई task देते है तो वो एक ही समय मे एक ही task करता है कोई दूसरा task वो तभी पूरा कर सकता है जब पहले वाला पूरा हो गया हो।

  • इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को wireless फ़ोन और two way communication के लिए बनाया जाता है जैसे MS – DOS, Palm OS.

Advantage Of single user single task in Hindi (सिंगल यूजर सिंगल टास्क के लाभ)

  1. यह बहुत कम मैमोरी का इस्तेमाल करता है।
  2. यह कम कीमत में मिल जाता है |
  3. इनका use उधर किया जाता है जहा केवल एक बार में किसी एक task को पूरा करना हो।

Disadvantage Of Single user single task  (सिंगल यूजर सिंगल टास्क के नुकसान )

  1. यह user के द्वारा दिये गये केवल एक ही task को पूरा करता है। यह दो task पूरा नहीं कर सकता।
  2. इसकी सबसे बढ़ी कमी यह है कि जब हम इसे एक से ज्यादा task देते है तो तब यह पूरा नहीं कर पाता।

Single User Multi Task Operating System in Hindi – सिंगल यूजर मल्टी टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

  • वह ऑपरेटिंग सिस्टम जो एक समय मे एक से ज्यादा task पूरे करता है उसे single user multi task कहा जाता है।

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम को केवल एक ही यूजर इस्तेमाल कर सकता है परन्तु वह बहुत सारे tasks को पूरा कर सकता है।

  • उदाहरण के लिए अगर आपको computer मे अपना काम करते समय गाने भी सुनना है तो आप single user multi task operating system का use कर सकते है लेकिन अगर आपका system single user multi task वाला नही है तो आप एक काम को एक बार मे ही कर पाएंगे।

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण windows, Linux, आदि है।

Advantage Of Single User Multi Task (सिंगल यूजर मल्टी टास्क के लाभ )

  1. यह एक समय मे एक से ज्यादा task पूरे कर सकता है।
  2. इसमे time की बचत होती है।
  3. इसकी help से हम कम समय मे ज्यादा output निकाल सकते है।

Disadvantage Of Single user multi task  (सिंगल यूजर मल्टी टास्क के नुकसान )

  1. इसमे single user वाले ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना मे ज्यादा memory की जरुरत होती है.
  2. यह बहुत ज्यादा complex होते है.
  3. इसकी कीमत ज्यादा होती है.

इसे पढ़ें:- ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार क्या है?

Multi User Operating System in Hindi – मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

  • वह ऑपरेटिंग सिस्टम जिसमें एक time मे एक से ज्यादा users काम कर सकते है उसे मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम कहा जाता है।

  • जैसे Unix एक ऐसा मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम है जो एक समय मे एक से ज्यादा task को perform कर सकता है।

  • इनका इस्तेमाल बड़े main frame कंप्यूटर मे किया जाता है। उदाहरण के रूप मे unix, Linux, solaris, MAC OS X , mainframe OS आदि।

  • इस OS का इस्तेमाल ज्यादातर बड़े उद्योगों, और सरकारी संस्थाओं में किया जाता है।
multi user operating system in Hindi
मल्टी यूजर का चित्र

Features of multi user operating system in Hindi (मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताए )

  1. यह एक समय मे एक से ज्यादा task को पूरा कर सकता है।
  2. यह operating system एक से ज्यादा process को handle कर सकता है।
  3. इससे हम कई सारे device जैसे प्रिंटर, हार्ड ड्राइव share कर सकते है।इसके इस feature से हम अपना कोई भी डॉक्यूमेंट share कर सकते है।
  4. यह background process को support करता है।जब कोई कमांड फ्रंट एंड से process नही होता तो यह उसे background मे process करता है।

Types of multi user operating system in Hindi (मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार)

  1. Distributed system – यह system कई सारे computers का collection (संग्रह) होता है जो आपस मे एक network से जुडे होते है। ये सभी computers काम को आपस मे मिलकर पूरा करते है।
  • Time sliced system – इस system मे user के हर एक task को पूरा करने के लिए CPU को छोटा सा time दिया जाता है | टास्क को समय देने का काम schedule algorithm से तय किया जाता है की कौन से task को पहले टाइम दिया जाये और कौन से task को बाद मे। हर task को process के लिए दिया गया time इतना कम होता है कि user को पता ही नही लगता।
  • Multiprocessor system – इसमे task को पूरा करने के लिए केवल एक processor नही होता बल्कि एक ही system मे कई सारे processor होते है इसलिए इसकी capacity (क्षमता) भी ज्यादा होती है।

Advantages of multi user operating system (मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के लाभ )

  1. इसमे किसी एक system मे होने वाला बदलाव किसी दूसरे system को प्रभावित नही करता।
  2. इस ऑपरेटिंग सिस्टम को अच्छे तरीके से handle से किया जा सकता है।
  3. दो अलग अलग user एक ही समय मे डॉक्यूमेंट को अपने अपने system मे access कर सकते है।
  4. बैंकिंग, एयरलाइन, टिकट reservation मे इसका use बहुत किया जाता है।

Disadvantage of multi user operating system (मल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के नुकसान )

  1. इसकी सबसे बड़ी कमी है की किसी एक system मे वायरस आने से बाकि इससे जुडे सभी system मे वायरस आ सकता है  क्योकि यह सभी कंप्यूटर आपस में एक network की help से जुडे होते है.
  2. इसमें सारी जानकारिया share होती है इसलिए यह कभी कभी आपके लिए खतरनाक भी हो सकता है.

Difference Between single user and multi user operating system in Hindi (सिंगल यूजर औरमल्टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम में अंतर)

इसके मध्य अंतर को नीचे दी गयी table के द्वारा आसानी से समझ सकते हैं:-

single-usermulti-user
यह एक time पर एक ही user को handle करता है.यह एक time पर दो या दो से ज्यादा user को handle कर सकता है।
इसका उपयोग घरो मे रखे PC के रूप मे होता हैइसका use बैंकिंग और एयरलाइन इंडस्ट्री मे होता है।
इनका डिजाईन easy होता है.इनका डिजाईन complex (कठिन) होता है.
इसे इस्तेमाल करना आसान है.इसे इस्तेमाल करना थोडा मुश्किल होता है.
इसके उदाहरण – window, linuxइसके उदाहरण – unix, solaris, HP-UX.
पहला ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा था?

दुनिया का पहला OS डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम है.

कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम लोकप्रिय है?

कंप्यूटर जगत में केवल 3 ही OS लोकप्रिय हैं – लिनक्स, मैक और विंडोज।

Reference:- https://www.javatpoint.com/single-user-operating-system

निवेदन:- अगर आपके लिए यह आर्टिकल उपयोगी रहा हो तो इसे अपने friends और classmates के साथ अवश्य share कीजिये. और आपको किसी भी subject से सम्बन्धित कोई question हो तो उसे नीचे comment करके बताइए.

Leave a Comment