Real Time Operating System (RTOS) in Hindi & Types

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में Real Time Operating System (RTOS) in Hindi (रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?) के बारें में पढेंगे और इसके Types को भी देखेंगे. इसे आप पूरा पढ़िए, आपको यह आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:- 

Real Time Operating System (RTOS) in Hindi – रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

  • Real time operating system को RTOS भी कहा जाता है।

  • RTOS एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका इस्तेमाल Real time एप्लीकेशन को हैंडल करने के लिए किया जाता है।

  • RTOS एक समय सीमा के अंदर अपने काम को पूरा करता है इसलिए यह बहुत ही fast (तेज) होता है।

  • रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग Rocket launcher और ATM मशीन में किया जाता है।

  • इस ऑपरेटिंग सिस्टम के पास एक fix time (निश्चित समय) होता है और उस time के अंदर ही इसने अपना काम पूरा करना होता है अन्यथा यह fail हो जाएगा।

  • इसके तीन प्रकार होते हैं – Soft real time, hard real time और Firm real-time.

  • RTOS के उदाहरण हैं – MTS, QNX, Lynx, और VxWords आदि।

  • Real time operating system का इस्तेमाल industrial और scientific (वैज्ञानिक) कार्यों के लिए किया जाता है।

Types of Real Time Operating System in Hindi – रियल टाइम सिस्टम के प्रकार

इसके तीन प्रकार होते हैं जो कि नीचे दिए गए हैं –

  1. Hard Real-Time operating system
  2. Soft Real-Time operating system
  3. Firm Real-Time operating system
Real time operating system RTOS in Hindi

1. Hard Real Time operating system

Hard RTOS में सभी महत्वपूर्ण कामो को दिए गए time के अंदर पूरा किया जाता है। अगर किसी वजह से दिए गए time के अंदर काम पूरा नहीं हो पाया तो बहुत नुकसान पहुंच सकता है। इससे डिवाइस डैमेज हो सकती है और इंसान की जान भी जा सकती है।

उदहारण के लिए आजकल ज्यादातर cars में airbag होते है। जो accident होने पर खुल जाते हैं। मान लीजिये कोई driver है जो car को drive कर रहा है और अचानक से वह किसी गाड़ी से टकराने वाला है।

ऐसे में car में लगे हुए airbags अपने आप ही ड्राइवर के सिर के सामने आ जायेगे। यानी airbags open हो जायेंगे। ताकि driver को चोट ना लगे। अगर airbags समय पर ना खुले। तो जाहिर सी बात है driver और car दोनों को ही काफी ज्यादा नुसकान हो  है।

2. Soft-Real Time operating system

Soft RTOS वह ऑपरेटिंग सिस्टम होता है जिसमें कुछ समय की देरी को accept (स्वीकार) किया जा सकता है। यानि इसमें कुछ समय के लिए काम या process में देरी हो सकती है।

इसमें भी काम को पूरा करने के लिए एक fix time होता है लेकिन यह थोड़ी देरी (delay) को accept करता है।

उदाहरण के लिए ATM मशीन से पैसा निकालते समय हमें कभी-कभी थोड़ा अधिक टाइम लग जाता है।

3. Firm Real-Time operating system

Firm real time में भी काम को करने की एक समय सीमा होती है। लेकिन अगर काम को time में पूरा नही किया गया तो यह ज्यादा नुकसान नही पहुंचाता।

Firm real time का इस्तेमाल बहुत सारें multimedia applications में किया जाता है।

इसे भी पढ़ें:- ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार

Advantages of Real time operating system – रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम के फायदे

इसके फायदे निम्नलिखित हैं।

1- यह devices को अच्छे तरीके से utilize करता है।

2- यह उस एप्लीकेशन को ज्यादा महत्व देता है जो run हो रही होती है।

3- यह एक काम से दूसरे काम मे shift होने में बहुत कम समय लेता है लगभग 3 माइक्रो-सेकंड का।

4- इस ऑपरेटिंग सिस्टम में error होने की संभावना बहुत कम होती है।

5- इसमें memory को allocate करना आसान है।

6- इसको maintain करना आसान है।

Disadvantages of Real time operating system in Hindi – रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम के नुकसान

RTOS के नुकसान नीचे दिए गए हैं-

1- RTOS में किसी real time application को विकसित करने में काफी ज्यादा पैसे खर्च होते है। यानी यह बहुत expensive (महंगा) होता है।

2- यह ऑपरेटिंग सिस्टम काफी ज्यादा complex (जटिल) होता है।

3- इसमें बहुत ज्यादा मात्रा में CPU का इस्तेमाल किया जाता है। जिसके कारण CPU को बार बार manage करके रखना पड़ता है।

4- इसको कार्य करने के लिए special devices की ज़रूरत पड़ती है।

5- इसमें एक समय में बहुत सारें tasks (काम) एकसाथ run नही हो सकते।

6- इसकी एल्गोरिथ्म बहुत कठिन होती है।

Reference:- https://www.javatpoint.com/real-time-operating-system

निवेदन:– अगर आपके लिए Real time operating System in Hindi का यह आर्टिकल उपयोगी रहा हो तो इसे अपने friends और classmates के साथ अवश्य share कीजिये. और आपको किसी भी subject से सम्बन्धित कोई question हो तो उसे नीचे comment करके बताइए.

Leave a Comment