Application Layer in Hindi – OSI Model

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस आर्टिकल में Application Layer in Hindi (एप्लीकेशन लेयर क्या है?) के बारें में पढेंगे. इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा गया है. इसे आप पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

Application Layer in Hindi – एप्लीकेशन लेयर क्या है?

Application Layer in Hindi

एप्लीकेशन लेयर OSI Model की सातवीं लेयर है जिसे हम Layer 7 भी कहते है। यह लेयर OSI मॉडल की सबसे ऊपरी लेयर होती है। यह लेयर यह सुनिश्चित करती है कि नेटवर्क में एक एप्लीकेशन दूसरे एप्लीकेशन के साथ आसानी से और प्रभावी रूप से कम्युनिकेशन कर पाए।

यह लेयर end user के सबसे नजदीक होती है जिसकी वजह से end user सीधे किसी भी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन के साथ interact कर सकता है।

Application layer कोई एप्लिकेशन नही है बल्कि यह एप्लिकेशन के अंदर मौजूद एक component होता है। इसकी मदद से यूज़र data को send और receive कर सकते हैं।

यह लेयर डेटा में manipulating के लिए अलग अलग तरीके प्रदान करती है जिसकी वजह से यूजर आसानी से नेटवर्क तक पहुंच जाता है।

एप्लीकेशन लेयर यह भी सुनिश्चित करती है की एक एप्लीकेशन अलग अलग कंप्यूटर के साथ सही तरीके से संचार कर रहा है।

यह लेयर HTTP, FTP, SMTP, NFS जैसे प्रोटोकॉल का प्रयोग करती है। इस लेयर का उपयोग यूजर के कमांड को नेटवर्क में distribute करने, E-Mail और files को नेटवर्क से जुड़े devices में transfer करने के लिए किया जाता है।

एप्लीकेशन लेयर यह control करती है कि कोई भी एप्लीकेशन किस प्रकार नेटवर्क से access करती है।

Function of Application Layer in Hindi – एप्लीकेशन लेयर के कार्य

1- Application layer के द्वारा यूजर remote computer से files को access कर सकता है और files को retrieve कर सकता है।

2- यह लेयर email को forward और store करने की सुविधा प्रदान करती है।

3- इस लेयर का प्रयोग करके यूजर डेटाबेस की directory को access कर सकता है।

4- यह लेयर फाइलों को ट्रांसफर करती है और यूजर के कमांड को distribute करने का काम करती है।

5- यह लेयर एक तरह का प्रोटोकॉल प्रदान करती है जिसकी वजह से डेटा को भेजना और प्राप्त करना आसान हो जाता है।

6- यह लेयर network transparency और resource allocation जैसे issues को handle करती है।

7- यह लेयर communication partner को पहचानने में मदद करती है।

8- यह लेयर यूजर को एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के साथ interact करने में मदद करती है।

9- एप्लीकेशन लेयर यह निर्धारित (determine) करती है की संचार करने के लिए पर्याप्त मात्रा में नेटवर्क संसाधन (resources) उपलब्ध है या नहीं।

10- एप्लिकेशन लेयर प्रोटोकॉल संचार में शामिल दोनों पक्षों (parties) के लिए प्रक्रिया को परिभाषित करती है।

Exam में पूछे जाने वाले सवाल

1- Application Layer क्या है ?

यह OSI Model की सातवीं लेयर है जो end – user के सबसे नजदीक होती है।

2- Application Layer के कार्य क्या है ?

यह लेयर फाइलों को ट्रांसफर करती है और यूजर के कमांड को distribute करने का काम करती है।

Refrence:- https://www.techtarget.com/searchnetworking/definition/Application-layer

निवेदन:- अगर आपके लिए Application Layer in Hindi (एप्लीकेशन लेयर क्या है?) का यह पोस्ट उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके जो भी questions हो उन्हें नीचे comment करके बताइए. धन्यवाद.

Leave a Comment