स्टार टोपोलॉजी क्या है? – Star Topology in Hindi

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस आर्टिकल में Star Topology in Hindi (स्टार टोपोलॉजी क्या है और इसके फायदे) के बारें में पढेंगे. इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा गया है. इसे आप पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

Star Topology in Hindi – स्टार टोपोलॉजी क्या है?

star-topology-in-Hindi

Star topology एक प्रकार की नेटवर्क टोपोलॉजी है जिसमे सभी कंप्यूटर एक central device के साथ जुड़े हुए होते हैं, जिसे hub कहते हैं.

इस टोपोलॉजी में central hub सर्वर की तरह काम करता है और जो डिवाइस होते हैं वह client की तरह काम करते हैं।

यह एक लोकप्रिय टोपोलॉजी है जिसका उपयोग Airports, Hospitals, Banks, और Educational Institutes में किया जाता है।

इस टोपोलॉजी में devices को आपस में कनेक्ट करने के लिए RJ-45 और coaxial cable का उपयोग किया जाता है। इस टोपोलॉजी का setup करना काफी आसान है।

इस टोपोलॉजी में central hub को client, server, और network के साथ जोड़ने के लिए Patch cable का प्रयोग किया जाता है।

इस टोपोलॉजी में सभी डिवाइस central hub से जुड़े होते है, यदि किसी कारण सेंट्रल हब में खराबी आती है तो सभी डिवाइस disconnect हो जाते है।

स्टार टोपोलॉजी का स्ट्रक्चर star (तारो) की तरह होता है। इस टोपोलॉजी का उपयोग LAN (Local Area Network) में किया जाता है।

इस टोपोलॉजी में यदि एक डिवाइस दुसरे डिवाइस को डेटा भेजना चाहता है तो उसे पहले central hub को डेटा ट्रांसफर करना पड़ेगा, इसके बाद central hub डेटा को दुसरे डिवाइस में डेटा ट्रांसफर करेगा। सरल शब्दो में कहे तो central hub सभी डिवाइस के लिए एक medium (माध्यम) की तरह काम करता है।

स्टार टोपोलॉजी को स्टार नेटवर्क के नाम से भी जाना जाता है जिसमे unlimited devices को कनेक्ट किया जा सकता है। हालांकि ऐसा करने से इसकी स्पीड कम हो जाएगी।

Application of Star Topology in Hindi – स्टार टोपोलॉजी के उपयोग

1- स्टार टोपोलॉजी का उपयोग lab में nodes को आपस में कनेक्ट करने के लिए किया जाता है।

2- इस टोपोलॉजी का उपयोग bank में devices को कनेक्ट करने के लिए किया जाता है।

3- इस टोपोलॉजी का उपयोग LAN (Local Area Network) में किया जाता है।

4- यह टोपोलॉजी छोटे organizations में devices को कनेक्ट करने में मदद करती है।

5- इसका प्रयोग छोटे institute में devices को आपस में कनेक्ट करने के लिए भी किया जाता है।

Features of Star Topology in Hindi – स्टार टोपोलॉजी की विशेषताएँ

1- स्टार टोपोलॉजी को किसी भी कंप्यूटर नेटवर्क में स्थापित (establishe) किया जा सकता है।

2- बस टोपोलॉजी की तुलना में स्टार टोपोलॉजी में अधिक केबल का उपयोग किया जाता है।

3- इस टोपोलॉजी के नेटवर्क को expand किया जा सकता है।

4- दुसरे टोपोलॉजी की तुलना में इस टोपोलॉजी में डेटा सुरक्षित रहता है।

5- इस टोपोलॉजी में यदि यूजर डिवाइस को disconnect करता है तो सभी डिवाइस पर उसका प्रभाव नहीं पड़ता।

Types of star Topology in Hindi – स्टार टोपोलॉजी के प्रकार

इसके तीन प्रकार होते है :-

Types of Star Topology

1- Passive Star Topology

पैसिव हब स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क का एक central device है जिसका निर्माण Passive Hub के द्वारा किया गया है।

यह टोपोलॉजी कंप्यूटर नेटवर्क में central device sender से signal प्राप्त करता है और इस सिग्नल को दुसरे डिवाइस में भेज देता है।

इस टोपोलॉजी में communication signals को regenerate नहीं किया जा सकता। यदि यूजर Passive Hub का उपयोग करके एक स्टार नेटवर्क का निर्माण करता है तो एक Passive Hub सेंट्रल डिवाइस के रूप में कार्य करता है।

इस टोपोलॉजी का प्रयोग बड़े नेटवर्क और telecommunication के लिए नहीं किया जा सकता।

2- Active Star Topology

इस टोपोलॉजी में एक active hub मौजूद होता है जो central device के उदेश्यो को पूरा करता है। यह टोपोलॉजी communication signals को regenerate कर सकती है।

इस टोपोलॉजी में सबसे पहले communication signals को regenerate किया जाता है इसके बाद सभी डिवाइस में ट्रांसफर किया जाता है।

एक्टिव हब बिलकुल पैसिव हब की तरह काम करता है लेकिन यह communication signals को regenerate कर सकता है। active hub एक repeater की तरह काम करता है।

3- Star Topology Using Switch

यह एक star architecture है जिसमे hub का उपयोग नहीं किया जाता। इस टोपोलॉजी में hub के स्थान पर switch का उपयोग किया जाता है।

एक switch कई प्रकार के कार्यो को पूरा कर सकता है लेकिन यह communication signals को transmit नहीं कर सकता। switch डेटा को रिसीवर के पास भेजने से पहले डेटा को read करता है।

यह सेन्डर से डेटा को प्राप्त करता है लेकिन इसे आगे नहीं भेजता , पहले स्विच destination address की जांच खुद करता है इसके बाद यह डेटा को सही destination address में भेज देता है।

Advantages of Star Topology in Hindi- स्टा टोपोलॉजी के फायदे

1- Star topology को manage करना आसान होता है।

2- इस टोपोलॉजी का setup करना आसान है।

3- इस टोपोलॉजी में नए devices को कनेक्ट करना आसान है।

4- इसमें data का टकराव नहीं होता.

5- इस टोपोलॉजी में error को detect करना आसान है।

6- इसमें डेटा को ट्रांसफर करने की स्पीड तेज है।

7- यदि इस टोपोलॉजी में किसी कारण एक केबल खराब हो जाती है तो उसका प्रभाव पूरे नेटवर्क पर नही पड़ता।

8- इसे expand करना आसान है।

9- यह टोपोलॉजी reliable है।

10- इसकी performance अच्छी है।

Disadvantages of Star Topology in Hindi – स्टार टोपोलॉजी के नुकसान

1- star topology में devices को कनेक्ट करने के लिए ज्यादा केबल की आवश्यकता पड़ती है।

2- इस टोपोलॉजी के setup में ज्यादा खर्चा आता है।

3- इस टोपोलॉजी में hub को run करने के लिए ज्यादा resources की ज़रूरत पड़ती है।

4- यदि इसमें hub ख़राब हो जाता है तो सारें devices काम करना बंद कर देते है।

5- इस टोपोलॉजी को additional equipment की ज़रूरत पड़ती है।

6- यदि इस टोपोलॉजी में अधिक devices को कनेक्ट कर दिया जाता है तो इसकी स्पीड कम हो जाती है।

7- इसमें जिस केबल का उपयोग किया जाता है वह केबल damage हो सकती है।

Difference between star & ring topology – स्टार और रिंग टोपोलॉजी में अंतर्

Star TopologyRing Topology
स्टार टोपोलॉजी में नोड्स central hub और router से कनेक्ट होते है।रिंग टोपोलॉजी में प्रत्येक नोड्स left और right side में नोड्स से कनेक्ट होते है।
इस टोपोलोजी के setup में ज्यादा खर्चा आता है।इस टोपोलॉजी के setup में कम खर्चा आता है।
इस टोपोलॉजी में डेटा central hub और router के सभी नोड्स में ट्रेवल करता है।इस टोपोलॉजी में डेटा एक ही नोड्स में ट्रेवल करता है।
रिंग टोपोलॉजी की तुलना में स्टार टोपोलॉजी में ज्यादा केबल का उपयोग किया जाता है।इस टोपोलॉजी में कम केबल का उपयोग किया जाता है।
इस टोपोलॉजी में नए डिवाइस को जोड़ने के लिए hub में नए केबल को जोड़ा जाता है।इस टोपोलॉजी में नए डिवाइस को जोड़ने के लिए कनेक्शन को disconnect करना पड़ता है।
इस टोपोलॉजी में नए devices को जोड़ना और हटाना मुश्किल है।इस टोपोलॉजी में नए डिवाइस को जोड़ना और हटाना आसान है।
इस टोपोलॉजी का structure आसान है।इसका structure जटील (complex) है।

Exam में पूछे जाने वाले प्रश्न

1- स्टार टोपोलॉजी क्या है?

स्टार टोपोलॉजी एक नेटवर्क टोपोलॉजी है जिसमे प्रत्येक डिवाइस एक central hub से कनेक्ट होता है।

2- स्टार टोपोलॉजी का प्रयोग कोनसे नेटवर्क में किया जाता है?

इस टोपोलॉजी का प्रयोग LAN (लोकल एरिया नेटवर्क) में किया जाता है।

Reference:https://www.computerhope.com/jargon/s/startopo.htm

निवेदन:- अगर आपके लिए Star Topology in Hindi (स्टार टोपोलॉजी क्या है और इसके फायदे) का यह पोस्ट उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके जो भी questions हो उन्हें नीचे comment करके बताइए. धन्यवाद.

Leave a Comment