Types of Software in Hindi – सॉफ्टवेयर के प्रकार

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस आर्टिकल में सॉफ्टवेयर क्या है और इसके प्रकार (Types of Software in Hindi) के बारें में पढेंगे. इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा गया है. इसे आप पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

Software in Hindi – सॉफ्टवेयर क्या है?

  • Software निर्देशों और प्रोग्राम का एक समूह होता है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर को चलाने तथा कंप्यूटर में कार्यों को करने के लिए किया जाता है।
  • दूसरे शब्दों में कहें तो, “सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है जिसकी सहायता यूजर कंप्यूटर पर कार्य करता है।”
  • हार्डवेयर को हम हाथों से छू सकते है और आंखों से देख सकते हैं परंतु सॉफ्टवेयर को हम ना तो छू सकते हैं और ना ही देख सकते हैं। अर्थात् हार्डवेयर कंप्यूटर का शरीर होता है और सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की आत्मा होती है।
  • बिना सॉफ्टवेयर के कंप्यूटर कोई भी कार्य नही कर सकता। सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को निर्देश (instructions) देता है, वह कंप्यूटर को बताता है कि कौन सा कार्य कब और कैसे करना है।
  • सॉफ्टवेयर को बनाने के लिए बहुत सारी प्रोग्रामिंग भाषाओँ का इस्तेमाल किया जाता है जैसे – जावा, C language, .Net, जावास्क्रिप्ट, एंड्राइड और पाइथन आदि.
software in hindi

इसे भी पढ़े –

Types of Software in Hindi – सॉफ्टवेयर के प्रकार

इसके तीन प्रकार होते हैं:-

types of software in hindi

1- Application Software (एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर)

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जिसे यूजर के विशेष कार्यों को पूरा करने के लिए विकसित किया जाता है।

दुसरे शब्दो में कहे तो “एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर एक ऐसा प्रोग्राम है जिसे end user के लिए बनाया गया है। इस प्रोग्राम के माध्यम से एन्ड यूजर विशेष प्रकार के कार्यो को पूरा कर सकता है।”

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को विशेष उद्देश्य के लिए बनाया जाता है। उदाहरण के लिए – गाने सुनने, वीडियो देखने, गेम खेलने, और ईमेल भेजने आदि के लिए इसको बनाया जाता है।

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके कोई भी व्यक्ति ऑनलाइन रिसर्च, ग्राफ़िक डिजाइनिंग, कैलकुलेशन और गेम खेल सकता है। इसके अलावा अलार्म को सेट कर सकता है, अकाउंट को लॉगिन कर सकता है और नोट्स लिख सकता है। और भी बहुत से ऐसे कार्य है जिन्हे एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के माध्यम से किया जा सकता है।

हम अपने मोबाइल फ़ोन और कंप्यूटर में जितने भी app देखते है वह सभी एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के उदहारण है।

Application Software को हम अपने कंप्यूटर या मोबाइल फोन में आसानी install कर सकते हैं और uninstall भी कर सकते हैं।

application software in hindi
एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के उदाहरण (Example)

फ़ोटोशॉप
● पेजमेकर
● ब्राउजर
● Whatsapp
● टेलीग्राम
● पावर पाइंट
● एम एस वर्ड
● एस एस एक्‍सेल

Functions of Application Software in Hindi – एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के कार्य

1- एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का मुख्य कार्य डेटा और सूचनाओं को manage करना होता है।

2- यह दस्तावेज (documents) को मैनेज करता है।

3- यह वीडियो को बनाने में मदद करता है।

4- यह गाने चलाने में मदद करता है।

5- इसके द्वारा यूज़र कंप्यूटर में गेम खेल सकता है।

6- यह सॉफ्टवेयर accounting और finance को मैनेज करता है।

7- यह project को मैनेज करता है।

8- यह टेक्स्ट मैसेजिंग, और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग करने में मदद करता है।

Advantages of Application Software in Hindi – एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के फायदे

1- यह यूजर की आवश्यकताओं के अनुसार उनके कार्य को पूरा कर सकता है।

2- इस सॉफ्टवेयर में वायरस का खतरा कम होता है।

3- लाइसेंस प्राप्त एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर नियमित रूप से अपडेट होते रहते है जिसके कारण यह सुरक्षित होते है। उदाहरण के लिए – गूगल प्ले स्टोर में सभी एप्लीकेशन सुरक्षित होती है।

Disadvantages of Application Software in Hindi – एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर के नुकसान

1- इस सॉफ्टवेयर को विकसित (develop) करने में ज्यादा खर्चा आता है।

2- इन्हे develop करने में काफी ज्यादा समय लगता है।

2- System Software (सिस्टम सॉफ्टवेयर)

System Software एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जो कंप्यूटर को control (नियंत्रित) और मैनेज करता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का सबसे प्रमुख सॉफ्टवेयर होता है। इसकी मदद से कंप्यूटर start (चालू) होता है। इसके बिना कंप्यूटर start भी नहीं हो सकता।

दूसरे शब्दों में कहें तो, “सिस्टम सॉफ्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जो कंप्यूटर और यूज़र के बीच इंटरफेस की तरह कार्य करता है।”

सिस्टम सॉफ्टवेयर ऐसे प्रोग्राम को कहा जाता है जिसका काम कंप्यूटर को चलाना और उसे काम करने योग्य बनाना होता है।

System Software को कंप्यूटर के हार्डवेयर और एप्लीकेशन प्रोग्राम को चलाने के लिए विकसित (develop) किया गया है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के background में चलता है और खुद ही कंप्यूटर के सभी कार्यो को मैनेज करता है।

इसे Low level software के नाम से भी जाना जाता है क्योकि इस सॉफ्टवेयर को low level language के माध्यम से विकसित किया जाता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर अन्य सॉफ्टवेयर को एक प्लेटफॉर्म प्रदान करता है जिसकी मदद से अन्य सॉफ्टवेयर अपना कार्य आसानी से कर पाते है।

System Software के उदहारण हैं – ऑपरेटिंग सिस्टम, फर्मवेयर, एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर, डिस्क फॉर्मेटिंग सॉफ्टवेयर और कंप्यूटर लैंग्वेज ट्रांसलेटर आदि।

system software in hindi
सिस्टम सॉफ्टवेयर

सिस्टम सॉफ्टवेयर के उदाहरण

विंडोज
● Mac OS
● IOS
● DOS
● Android OS
● Linux
● Firmware

इसे पढ़ें-

Functions of System Software in Hindi – सिस्टम सॉफ्टवेयर के कार्य

1- सिस्टम सॉफ्टवेयर कंप्यूटर के आंतरिक कार्यों को control (नियंत्रित) करता है।

2- यह मॉनिटर, प्रिंटर, और स्टोरेज डिवाइस को नियंत्रित करता है।

3- यह कंप्यूटर के functions (कार्यों) को मैनेज करके रखता है ताकि कार्य करते वक़्त सिस्टम में कोई खराबी ना आये।

4- यह कंप्यूटर के resources (संसाधनों) को मैनेज करके रखता है।

5- यह हार्डवेयर कॉम्पोनेन्ट के साथ हो रहे संचार (communication) को संभालता है।

Advantages of System Software in Hindi – सिस्टम सॉफ्टवेयर के फायदे

1- सिस्टम सॉफ्टवेयर के कार्य करने की गति (speed) काफी तेज होती है।

2- यह कंप्यूटर को चलाने में मदद करता है।

3- यह सिस्टम की performance को बेहतर बनाने में मदद करता है।

4- यह सॉफ्टवेयर वायरस का पता लगाने में सक्षम है।

5- इसे हैकर आसानी से हैक नही कर सकता है।

Disadvantages of System Software in Hindi – सिस्टम सॉफ्टवेयर के नुकसान

1- सिस्टम सॉफ्टवेयर को डिज़ाइन करना काफी मुश्किल होता है।

2- इसमें हेरफेर (manipulate) करना मुश्किल है।

3- इसे समझना काफी मुश्किल होता है।

4- यह सॉफ्टवेयर महंगा होता है।

5- इस सॉफ्टवेयर की विकसित करने के लिए developers को लो लेवल लैंग्वेज का ज्ञान होना चाहिए।

6- इसे बनाने में अधिक समय लगता है।

3- Utility Software (यूटिलिटी सॉफ्टवेयर)

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जिसका काम कंप्यूटर हार्डवेयर, ऑपरेटिंग सिस्टम और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर को organize (व्यवस्थित) करना होता है।

दुसरे शब्दो में कहे तो “यूटिलिटी सॉफ्टवेयर एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर को analyze , configure, मॉनिटर और मैनेज करने के लिए किया जाता है।”

Utility software कंप्यूटर के कामकाज (functioning) को मेन्टेन करके रखता है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कई प्रकार के कार्यो को करता है जैसे :- कंप्यूटर में वायरस का पता लगाना, डेटा का बैकअप लेना, खराब फाइलों को डिलीट करना और डिस्क को मैनेज करना आदि।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर में ऐसे घटक (component) शामिल होते है जो ऑपरेटिंग सिस्टम को यह बताते है कि कौन सी स्थिति में कैसे काम करना है।

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के कुछ लोकप्रिय उदाहरण हैं:- एंटीवायरस, फाइल मैनेजमेंट सिस्टम, डिस्क मैनेजमेंट टूल और डिस्क क्लीनअप टूल आदि।

utility software in hindi
यूटिलिटी सॉफ्टवेयर

Utility software के उदाहरण

Microsoft defender
● Norton 360
● McAfee Total protection
● WinZip
● WinRAR
● Backup

Functions of Utility Software in Hindi – यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के कार्य

1- यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर में मौजूद सभी फाइलों को manage करता है।

2- यह कंप्यूटर में छिपे वायरस का पता लगाता है और उन्हें डिलीट करता है।

3- यह कंप्यूटर मैमोरी को मेन्टेन करके रखता है।

4- यह सिस्टम में मौजूद खराब फाइलों को डिलीट करने का काम करता है।

5- यह डेटा का बैकअप लेने में मदद करता है।

6- यह कंप्यूटर सिस्टम की performance को बढ़ाता है।

Advantages of Utility Software in Hindi – यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के फायदे

1- इस सॉफ्टवेयर की performance काफी अच्छी है।

2- यह कंप्यूटर और इसके इंटरफ़ेस को customize करने में मदद करता है।

3- यह कंप्यूटर को सुरक्षित रखता है।

4- यदि कंप्यूटर में कोई फाइल गलती से डिलीट हो गई है तो उन्हें पुनर्प्राप्त (recover) करने में मदद करता है।

5- कई बार हार्डडिस्क अनचाहे (unwanted) फाइलों से भर जाती है , यह सॉफ्टवेयर उन फाइलों का पता लगाने और उन्हें डिलीट करने में मदद करता है।

6- यह हार्ड डिस्क को compress करके उसकी क्षमता को बढ़ाता है।

7- यह नेटवर्क की सेटिंग का कॉन्फ़िगरेशन करने में मदद करता है।

Disadvantages of Utility Software in Hindi – यूटिलिटी सॉफ्टवेयर के नुकसान

1- कुछ मामलो में यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर की performance को धीमा भी कर देता है।

2- यह अधिक RAM (रैंडम एक्सेस मेमोरी) का उपयोग करता है।

3- अधिक यूटिलिटी सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को गर्म कर देते है।

4- हैकर्स इन सॉफ्टवेयर पर लगातार अटैक करते रहते है जिसके कारण डेटा की चोरी होने का खतरा बढ़ जाता है।

Exam में पूछे जाने वाले प्रश्न

सॉफ्टवेयर क्या है?

सॉफ्टवेयर निर्देशों और प्रोग्राम का एक समूह होता है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर को चलाने तथा कंप्यूटर में कार्यों को करने के लिए किया जाता है।

सॉफ्टवेयर के कितने प्रकार होते है?

इसके तीन प्रकार होते है।

Reference:https://www.geeksforgeeks.org/software-and-its-types/

निवेदन:- अगर आपके लिए (सॉफ्टवेयर क्या है और इसके प्रकार – Types of Software in Hindi) का यह पोस्ट उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके जो भी questions हो उन्हें नीचे comment करके बताइए. धन्यवाद.

Leave a Comment