जावा क्या है? – What is Java in Hindi?

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में What is Java in Hindi (जावा क्या है?) के बारें में पढेंगे. इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा गया है. इसे आप पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

What is Java in Hindi – जावा क्या है?

  • जावा एक हाई लेवल की प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका इस्तेमाल सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन को बनाने के लिए किया जाता है.

  • दुसरे शब्दों में कहें तो, “जावा एक object-oriented प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका इस्तेमाल मोबाइल एप्लीकेशन और वेब एप्लीकेशन को बनाने के लिए किया जाता है.”

  • जावा को James Gosling (जेम्स गोसलिंग) ने 1995 में विकसित किया था, इसलिए जेम्स गोसलिंग को ‘जावा का पिता’ भी कहा जाता है.

  • Java एक ओपन सोर्स लैंग्वेज है जिसका मतलब यह है कि इसका इस्तेमाल कोई भी व्यक्ति मुफ़्त (free) में कर सकता है।

  • Java एक बहुत ही प्रसिद्ध और लोकप्रिय भाषा है जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के कार्यो को पूरा करने के लिए किया जाता है, जैसे :- मोबाइल एप्लीकेशन बनाने के लिए , वेब एप्लीकेशन बनाने के लिए , सॉफ्टवेयर डिज़ाइन करने के लिए , और गेम बनाने के लिए आदि।

  • यह एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड भाषा है जिसका अर्थ है कि इसमें class और objects का इस्तेमाल करके program को लिखा जाता है.

  • जावा एक platform independent (प्लेटफ़ॉर्म स्वतंत्र) भाषा है  जिसका अर्थ है कि जावा में लिखे गये code को किसी भी कंप्यूटर और ऑपरेटिंग सिस्टम में run किया जा सकता है.

  • जावा एक आसान लैंग्वेज है क्योंकि इसमें C++ की तरह ही syntax होते है जो कि आसानी से सीखे जा सकते है। जावा में operator overloading (ऑपरेटर ओवरलोडिंग) तथा header files का प्रयोग नही किया जाता है जिससे यह और भी आसान हो जाती है।

  • शुरुआती दिनों में जावा को Oak के नाम से जाना जाता था लेकिन कुछ समय के बाद जेम्स गोस्लिंग (James Gosling) और उनकी टीम ने Oak नाम बदलकर जावा रख दिया।

जावा की विशेषताएं

Java की निम्नलिखित विशेषताएं होती है :-

features of Java in Hindi

1- Simple (सरल)

जावा एक सरल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे कोई भी व्यक्ति बड़ी आसानी से सीख सकता है। इस भाषा का सिंटेक्स काफी सरल होता है जिसकी वजह से इसे समझना काफी आसान होता है। जावा का सिंटेक्स C++ की तरह ही होता है जिसके कारण इसे सीखना आसान है। 

2- Secure (सुरक्षित)

जावा एक सुरक्षित भाषा है क्योंकि जावा के प्रोग्राम JRE (जावा रनटाइम एनवायरनमेंट) में रन होते है. इसके साथ साथ इसमें encryption का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण कोई भी हैकर इसे hack नहीं कर पाता.

जावा में कोई भी वायरस आसानी से प्रवेश नहीं कर सकता जिसकी वजह से यूजर का डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।

3- Object-Oriented (ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड)

जावा एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड भाषा है इसलिए इसमें class और objects का उपयोग करके प्रोग्राम को लिखा जाता है.

4- Portable (पोर्टेबल)

जावा एक portable लैंग्वेज है क्योंकि हम इसके bytecode को किसी भी कंप्यूटर और डिवाइस में run कर सकते हैं.

5- High-performance (उच्च प्रदर्शन)

अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओँ की तुलना में जावा की परफॉरमेंस काफी अच्छी होती है। यह एक तेज भाषा है जो तेज गति से सभी कार्यो को करती है। हालांकि यह अभी भी C और C ++ की तुलना में थोड़ी धीमी है।

6- Robust (मज़बूत)

जावा में garbage collection अपने आप हो जाता है और इसमें मेमोरी एलोकेशन बहुत बढ़िया है। जावा में जो भी errors (त्रुटियाँ) आती है उन्हें आसानी से हल किया जा सकता है। इन्हीं सभी कारणों से जावा Robust लैंग्वेज है।

7- Multi-Threading (मल्टी-थ्रेडिंग)

जावा में multi threading का इस्तेमाल किया जाता है जिसके कारण जावा के बड़े program को छोटे programs में विभाजित किया जा सकता है और फिर इन छोटे programs को एक एक करके execute किया जाता है.

8- Dynamic (डायनामिक)

जावा एक डायनामिक लैंग्वेज है क्योंकि इसमें हम variable को run time में allocate कर सकते हैं.

9– Distributed (वितरित)

इस भाषा को distribute (वितरित) किया जा सकता है क्योकि यह यूजर को डिस्ट्रिब्यूटेड एप्लीकेशन बनाने की सुविधा प्रदान करती है। डिस्ट्रिब्यूटेड एप्लीकेशन बनाने के लिए RMI और EJB का उपयोग किया जाता है।

Advantages of Java in Hindi – जावा के फायदे

इसके निम्नलिखित फायदे होते है :-

1- जावा एक सरल प्रोग्रामिंग भाषा है जिसे सिखना काफी आसान होता है।

2- यह एक ओपन सोर्स लैंग्वेज है जिसके कोड को कोई भी व्यक्ति आसानी से देख और मॉडिफाई कर सकता है।

3- यह एक Free (मुफ़्त) भाषा है यानी इसका उपयोग करने के लिए यूजर को पैसे खर्च करने की आवश्यकता नहीं पड़ती। इसे यूजर इन्टरनेट से फ्री में डाउनलोड करके इस्तेमाल कर सकता है.

4- जावा एक सुरक्षित भाषा है जिसमे वायरस प्रवेश नहीं कर सकता। इस भाषा में यूजर का डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रहता है।

5- यह एक पोर्टेबल भाषा है जिसके कोड को किसी भी डिवाइस पर रन किया जा सकता है।

Disadvantages of Java in Hindi – जावा के नुसकान

इसके नुकसान नीचे दिए गये हैं:-

1- जावा का प्रदर्शन C और C++ की तुलना में ज्यादा अच्छा नहीं है। यह C और C++ की तुलना में धीमी है।

2- इसे अधिक मात्रा में मेमोरी की आवश्यकता होती है।

3- जावा low level प्रोग्रामिंग को सपोर्ट नहीं करती.

4- जावा प्रोग्राम को चलाने के लिए यूजर को बेहतर हार्डवेयर की आवश्यकता पड़ती है।

5- इसमें garbage collection अपने आप होता है, यूजर अपने हिसाब से इसे कंट्रोल नहीं कर सकता.

6- यह unsigned types को सपोर्ट नहीं करता.

7- इसमें किसी भी data का बैकअप नहीं लिया जा सकता.

Java का सरल प्रोग्राम 

class Simple{  
    public static void main(String args[]){  
     System.out.println("Hello! What is Your Name?");  
    }  
}

इसका आउटपुट – Hello! What is Your Name?

Types of Java Applications in Hindi – जावा एप्लीकेशन के प्रकार   

जावा का इस्तेमाल करके 4 प्रकार की एप्लीकेशन को बनाया जा सकता है:-

1- Standalone Application (स्टैंडअलोन एप्लीकेशन)

Standalone Application को डेस्कटॉप एप्लीकेशन या विंडो एप्लीकेशन के नाम से भी जाना जाता है। स्टैंडअलोन एप्लिकेशन एक प्रकार का सॉफ्टवेयर है जिसे सभी मशीनो पर इनस्टॉल किया जाता है। इस सॉफ्टवेयर के लोकप्रिय उदहारण है :- मीडिया प्लेयर, एंटीवायरस आदि।

Java में स्टैंडअलोन एप्लीकेशन बनाने के लिए AWT और Swing का उपयोग किया जाता है।

2- Web Application (वेब एप्लीकेशन)

वेब एप्लीकेशन का इस्तेमाल डायनामिक पेज बनाने के लिए किया जाता है। वेब एप्लीकेशन को server side पर run किया जाता है। जावा में वेब एप्लिकेशन बनाने के लिए servlet, JSP, Struts, Spring, और Hibernet आदि तकनीकों का उपयोग किया जाता है।

3- Enterprise Application (एंटरप्राइज एप्लीकेशन)

एंटरप्राइज एप्लीकेशन का इस्तेमाल बैंको में किया जाता है। जावा में एंटरप्राइज़ एप्लिकेशन बनाने के लिए EJB का उपयोग किया जाता है। यह एप्लीकेशन बैंको में होने वाले लेनदेन को सुरक्षा प्रदान करता है।

4- Mobile Application (मोबाइल एप्लीकेशन)

वह एप्लीकेशन जिसे मोबाइल के लिए बनाया जाता है उसे मोबाइल एप्लीकेशन कहा जाता है। इन एप्लीकेशन का इस्तेमाल ज्यादतर मोबाइलों में किया जाता है। आधुनिक समय में मोबाइल एप्लीकेशन बनाने के लिए Android और Java ME का उपयोग किया जाता है।

इसे पढ़ें:- जावा के सभी नोट्स

Types of Java Platform in Hindi – जावा प्लेटफार्म के प्रकार

Java के चार प्लेटफ़ॉर्म होते है:-

1- Java SE (Java Standard Edition)

यह एक जावा प्रोग्रामिंग प्लेटफार्म है जिसमे java.lang, java.io, java.net, java.util, java.sql, java.math आदि API शामिल होते हैं। इस प्लेटफार्म में OOPs, String, Regex, Exception, Inner Classes, Multithreading जैसे प्रमुख कांसेप्ट भी शामिल है।

2- Java EE (Java Enterprise Edition)

Java EE प्लेटफार्म का इस्तेमाल मुख्य रूप से वेब एप्लीकेशन और एंटरप्राइज़ एप्लिकेशन को विकसित करने के लिए किया जाता है। इस प्लेटफार्म में Servlet, JSP, Web service, और JPA आदि कांसेप्ट शामिल हैं।

3- Java ME (Java Micro Edition)

यह एक micro (छोटा) प्लेटफार्म है जिसका उपयोग मोबाइल एप्लीकेशन बनाने के लिए किया जाता है।

4- Java FX

Java FX चौथा और आखरी प्लेटफार्म है जिसका इस्तेमाल इंटरनेट एप्लीकेशन को बनाने के लिए किया जाता है। यह इंटरनेट एप्लीकेशन विकसित करने के लिए एक lightweight  इंटरफेस API का प्रयोग करता है।

Applications of Java in Hindi – जावा के उपयोग

Java का उपयोग निम्नलिखित कार्यों के लिए किया जाता हैं:-

1- जावा का इस्तेमाल मोबाइल एप्लीकेशन को विकसित करने के लिए किया जाता है। ज्यादतर मोबाइल एप्लीकेशन को जावा की मदद से बनाया गया है। यह मोबाइल एप्लीकेशन बनाने की एक लोकप्रिय भाषा है जिसका उपयोग करके प्रोग्रामर विभिन्न प्रकार के मोबाइल एप्लीकेशन को विकसित करते है। Spotify और Twitter जैसे लोकप्रिय एप्लीकेशन को जावा का उपयोग करके बनाया गया है।

2- इसका इस्तेमाल डेस्कटॉप एप्लीकेशन बनाने के लिए भी किया जाता है। डेस्कटॉप एप्लीकेशन विकसित करने के लिए Java AWT, Java AFX का प्रयोग किया जाता है।

3– इसका उपयोग करके यूजर वेब एप्लीकेशन को भी बना सकता है।

4– जावा एक ओपन सोर्स लैंग्वेज है जिसका इस्तेमाल बड़ी बड़ी गेम कंपनियों के द्वारा गेम बनाने के लिए किया जाता है। यह भाषा 3D गेम को डिज़ाइन करने में मदद करती है। इस भाषा में गेम को develop करने के लिए कुछ लोकप्रिय फ्रेमवर्क और लाइब्रेरी उपलब्ध हैं, जैसे की – LibGDX और OpenGL.

5– इसका इस्तेमाल big data की टेक्नोलॉजी को बनाने में किया जाता है.

6- Java का इस्तेमाल क्लाउड आधारित एप्लीकेशन को विकसित करने के लिए किया जाता है। हम जावा का उपयोग करके SaaS , LaaS और PaaS जैसी सेवाओं को विकसित कर सकते हैं।

7– IoT एक ऐसी तकनीक है जिसका इस्तेमाल डिवाइसों को नेटवर्क के साथ जोड़ने के लिए किया जाता है ताकि सभी डिवाइस आपस में संचार (communication) कर सके। हम जावा की मदद से IoT एप्लीकेशन को विकसित कर सकते है। IoT का पूरा नाम इंटरनेट ऑफ थिंग्स होता है।

जावा का इतिहास

  • जावा लैंग्वेज के बनने का इतिहास भी काफी दिलचस्प है. जावा लैंग्वेज को 1991 में James Gosling और उनकी टीम ने Sun Microsystems में बनाया था. इस टीम को Green Team भी कहा जाता है जिसमे James Gosling, Mike Sheridan, और Patrick Naughton शामिल थे.

  •  जावा लैंग्वेज को set-top boxes, और televisions जैसे डिजिटल डिवाइस के लिए एक लैंग्वेज बनाने के लिए एक प्रोजेक्ट के तौर पर डेवलप किया गया था.

  • जावा का असली नाम Oak था लेकिन सन 1995 मे इसका नाम Oak से बदलकर Java रख दिया गया। क्योंकि Oak पहले से ही Oak technologies नाम की कंपनी का trademark था।

  • Java को James Gosling  के द्वारा सन 1995 मे develop किया गया था इसलिए जेम्स गोसलिंग को Father Of Java के नाम से भी जाना जाता है।

  • Java programming language के project को June 1991 मे शुरू किया गया था। 

  • 2010 में java को Oracle कंपनी ने खरीद लिया था.

जावा और C++ में अंतर – Difference between Java & C++ in Hindi

JavaC++
जावा एक प्लेटफ़ॉर्म इंडिपेंडेंट प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है क्योंकि इसके बाइट कोड को हम किसी भी कंप्यूटर में रन कर सकते हैं।C++ प्लेटफार्म डिपेंडेंट प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है क्योंकि इसमें एक कंप्यूटर में लिखे गये कोड को दूसरे कंप्यूटर में रन नहीं किया जा सकता
इसका मुख्य रूप से उपयोग एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग के लिए किया जाता है, जैसे- विंडो एप्लीकेशन, वेब बेस्ड एप्लीकेशन, एंटरप्राइज और मोबाइल एप्लीकेशन.C++ का मुख्य रूप से उपयोग सिस्टम प्रोग्रामिंग के लिए किया जाता है।
यह पूरी तरह से एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है क्योंकि इसमें जो प्रोग्राम लिखे जाते हैं, वह बिना क्लास और ऑब्जेक्ट के नहीं बना सकते हैं।C++ एक ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है, लेकिन इसे पूरी तरह से ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं कहा जा सकता है क्योंकि इसमें प्रोग्राम को बिना क्लास और ऑब्जेक्ट के भी बनाया जा सकता है
Java Language क्लास के द्वारा मल्टीप्ल इनहेरिटेंस को सपोर्ट नहीं करता, इसकी जगह वह इंटरफ़ेस का उपयोग करता है।C++, मल्टीप्ल इनहेरिटेंस को सपोर्ट करता है, जिसमे एक कोड को दूसरी जगह इस्तेमाल किया जा सकता है। इसका मतलब है कि आप एक क्लास में क्रिएट किये गये फंक्शन्स को दूसरी क्लास में इन्हेरिट कर सकते हैं। इस प्रकार आपको इन फंक्शन्स को दुबारा लिखने की जरुरत नहीं पड़ेगी
यह कम्पाइलर और इंटरप्रेटर दोनों का उपयोग करता है। C++ लैंग्वेज केवल कम्पाइलर का उपयोग करता है.
इसमें मेमोरी मैनेजमेंट JVM यानि कि जावा वर्चुअल मशीन के द्वारा होता है यानि कि इसमें मेमोरी एलोकेट और डीलोकेट अपने आप होती है।C++ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में मेमोरी एलोकेट और डीलोकेट करवाने की जिम्मेदारी प्रोग्रामर की होती है।
यह destructor को सपोर्ट नहीं करता है क्योंकि इसमें आटोमेटिक गारबेज कलेक्शन मौजूद रहता है।यह destructor को सपोर्ट करता है, जोकि मेमोरी को डिस्ट्रॉय करने का कार्य करता है।

Exam में पूछे जाने वाले प्रश्न

जावा से आप क्या समझते हैं?

जावा एक प्रोग्रामिंग भाषा है जिसे मूलतः सन माइक्रोसिस्टम्स के जेम्स गोसलिंग द्वारा विकसित किया गया तथा 1995 में इसे सन माइक्रोसिस्टम्स के जावा प्लेटफ़ार्म के एक मुख्य अवयव के रूप में रिलीज़ किया गया।

जावा कितने प्रकार के होते हैं?

इसके 4 प्रकार होते हैं:- Java Micro Edition, Java Standard Edition, Java Enterprise Edition और Java FX.

Reference:- https://www.java.com/en/download/help/whatis_java.html

java in Hindi

निवेदन:- अगर आपके लिए What is Java in Hindi का यह आर्टिकल उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके जो भी questions हो उन्हें नीचे comment करके बताइए. धन्यवाद.

2 thoughts on “जावा क्या है? – What is Java in Hindi?”

Leave a Comment