Relational Calculus in DBMS in Hindi – रिलेशनल कैलकुलस क्या है?

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS) में, Relational Calculus एक Non-Procedural क्वेरी लैंग्वेज है जिसमें हमें यह नहीं बताना पड़ता कि हमें डेटा कैसे प्राप्त करना है, हमें सिर्फ यह बताना पड़ता है कि हमें कौन-सा डेटा चाहिए.

रिलेशनल कैलकुलस की मदद से हम table में से डेटा को प्राप्त (retrieve) कर सकते है, और सर्च (search) कर सकते है.

यह Relational Model पर आधारित है और यह डेटाबेस में से डेटा को search, और retrieve करने के लिए logic का इस्तेमाल करता है.

DBMS में Relational Calculus का उदाहरण

SELECT the tuples from STUDENT relation with CLASS= 'COMPUTER'

ऊपर दिए गए उदाहरण में, आपको एक रिलेशनल कैलकुलस दिया गया है जो STUDENT relation में मौजूद CLASS = “COMPUTER” में से tuples को select करता है.

रिलेशनल कैलकुलस के प्रकार – Types of Relational Calculus in DBMS in Hindi

इसके मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं:-

  1. Tuple Relational Calculus (TRC)
  2. Domain Relational Calculus (DRC)
Types of Relational Calculus in DBMS in Hindi

Tuple Relational Calculus (TRC)

TRC एक non-procedural क्वेरी लैंग्वेज है जिसका इस्तेमाल एक निश्चित कंडीशन के आधार पर टेबल में से tuples (rows) को select करने के लिए किया जाता है. इसमें variable का इस्तेमाल Tuple को प्रस्तुत करने के लिए किया जाता है.

नीचे आपको Tuple Relational Calculus (TRC) का सिंटेक्स दिया गया है:-

{ t | P (t) } or { t | Condition (t) }

ऊपर दिए गए सिंटेक्स में t एक tuple को प्रस्तुत करता है और P(t) एक कंडीशन को प्रस्तुत करती है.

Domain Relational Calculus (DRC)

DRC का इस्तेमाल कुछ निश्चित कंडीशन के आधार पर table में से values को select करने के लिए किया जाता है. इसमें variable का उपयोग value को प्रस्तुत करने के लिए किया जाता है.

नीचे आपको Domain Relational Calculus (DRC) का सिंटेक्स दिया गया है:-

{  | P(x1,x2,x3,x4,...,xn) }

ऊपर दिए सिंटेक्स में, < x1,x2,x3,x4,…,xn> को domain variables कहते हैं और इन variables का इस्तेमाल values को select करने के लिए किया जाता है. P(x1,x2,x3,x4,…,xn) को predicate condition कहा जाता है.

इसे पढ़ें:-

कुछ महत्वपूर्ण बिंदु –

  • रिलेशनल कैलकुलस एक non-procedural क्वेरी भाषा है.
  • इसके दो प्रकार होते हैं – TRC और DRC.
  • TRC का इस्तेमाल tuple को select करने के लिए किया जाता है और DRC का इस्तेमाल values को select करने के लिए किया जाता है.
  • रिलेशनल अलजेब्रा की तुलना में रिलेशनल कैलकुलस को समझना मुश्किल है.
  • रिलेशनल कैलकुलस एक read only लैंग्वेज है इसके द्वारा हम सिर्फ डेटा को select कर सकते है. परन्तु इसमें कोई change नहीं कर सकते. डेटा को change करने के लिए हमें Data Manipulation Language (DML) का इस्तेमाल करना पड़ेगा.

निवेदन:- अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर कीजिये, जिससे कि वे भी इसका लाभ ले पाए. आपके कोई सवाल हो तो नीचे कमेंट करके बताइए.

1 thought on “Relational Calculus in DBMS in Hindi – रिलेशनल कैलकुलस क्या है?”

Leave a Comment