alpha & beta testing in hindi?

Alpha testing in hindi:-

alpha टेस्टिंग को निम्नलिखित बिन्दुओं के आधार पर आसानी से समझ से सकते है:-

*यह टेस्टिंग acceptance टेस्टिंग का एक प्रकार है.

*customers के लिए सॉफ्टवेर प्रोडक्ट को release करने से पहले उसमें संभावित defects तथा bugs को detect करना इस टेस्टिंग का मुख्य उद्देश्य होता है.

*इस टेस्टिंग को हमेशा developers के द्वारा developer site(जहाँ engineers काम करते है) पर ही परफॉर्म किया जाता है.

*यह टेस्टिंग तब की जाती है जब सॉफ्टवेर बनकर तैयार हो जाता है अगर alpha टेस्टिंग के बाद defects के कारण कुछ बदलाव करने होते है वह कर लिए जाते है.

*यह टेस्टिंग दो steps में पूर्ण होती है, पहले स्टेप में इस टेस्टिंग को developers के द्वारा परफॉर्म किया जाता है जबकि दुसरे स्टेप को software quality assurance(SQA) टीम के द्वारा परफॉर्म किया जाता है.

*यह टेस्टिंग पब्लिक के लिए बंद होती है अर्थात् इस टेस्टिंग में पब्लिक का कोई involvement नही होता है.

*यह टेस्टिंग हमेशा virtual environment में ही की जाती है.
image

Beta testing in hindi:-

beta testing को निम्नलिखित बिन्दुओं के आधार पर आसानी से समझ सकते है.

*यह भी एक acceptance टेस्टिंग का एक प्रकार है तथा इसे field टेस्टिंग भी कहते है.

*इस टेस्टिंग को end users के द्वारा real environment में परफॉर्म किया जाता है.

*इसे टेस्टिंग टीम के द्वारा परफॉर्म नही किया जाता है.

*beta टेस्टिंग का उद्देश्य users के perspective के आधार पर सॉफ्टवेर में उपस्थित दोष तथा समस्या को detect करना है तथा users से उपलब्ध फीडबैक को प्राप्त करना है, ताकि सॉफ्टवेर के अगले updated version में इन समस्याओं को दूर किया जा सकें.

*यह टेस्टिंग real time environment में की जाती है.

*यह टेस्टिंग पब्लिक के द्वारा की जाती है.

*alpha टेस्टिंग के बाद beta टेस्टिंग की जाती है और beta टेस्टिंग के बाद कोई और टेस्टिंग नही होती है.

  • आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें comment के माध्यम से बताये तथा अपने दोस्तों के साथ share करें. Alpha तथा Beta टेस्टिंग के बारें आप अगर कुछ अन्य बिंदु जानते हो तो हमें बताएं. धन्यवाद.

  • 7 thoughts on “alpha & beta testing in hindi?”

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *