डेटा स्टोरेज क्या है तथा डेटा स्टोरेज के प्रकार क्या है?

data storage in hindi:-

कंप्यूटर data storage के तरीके

Data storage बहुत ही ज़रूरी है ताकि ज़रूरत आने पर आप कभी भी उसका इस्तेमाल  कर सके। व्यापार की दुनिया मे डाटा को संभाल के रखना बहुत ही ज़रूरी है जो ज़रूरी जानकारी के रूप मे भी हो सकती है, जैसे वहा काम करने वाले लोगो की निजी जानकारी , ग्राहको की जानकारी , आपके व्यापार की जानकारी , बैंक की जानकारी ,परियोजनाओं की जानकारी, और भी बहुत। इसी लिए कुछ उपकरणो का उपयोग करके ये सारी जानकारी संभाल कर रखी जाती है।

तोह आइये जानते इनके प्रकार और इनका इस्त्माल कहा कहा किया जा सकता है।

types of Data Storage in hindi :

  1. मुख्य भंडारण [primary storage]
  2. माध्यमिक भंडारण [Secondary storage]

मुख्य भंडारण [primary data storage]

  • जैसे RAM[random access memory] और रैम  यह आपके कंप्यूटर या लैपटॉप के अंदर मौजूद होता है और बहुत ही volatile होता है और यह तब तक आपके डेटा को रखता है जब तक आपका प्रणाली [SYSTEM] खुला रहता है और बंद होते ही पूरी जानकारी भी चले जाती है. जैसे आप बहुत देर से कॉलेज ढूंढ रहे हो Top btech colleges in chennai या btech colleges in chennai  तोह अगली बार जब आप उसी तरह को कुछ ढूंढ़ते है तोह वह आपको उसके जैसे सारे परिणाम दिखा देता है।
  • अगर आपको कोई जानकारी ज़रूरी है और उसे बाद के लिए संभाल कर रखना है तोह आप उसे डाउनलोड करके आपके हार्ड ड्राइव [HARD DRIVE] मे रख सकते है।
  • जैसे अगर आपने कोई गाना डाउनलोड करना है तो  आप उसे डाउनलोड करके बाद मे भी सुन सकते है वो आपके हार्ड ड्राइव मे ही मौजूद रहेगा।

इसे भी पढ़ें:- ROM क्या है? तथा इसके प्रकार क्या है?

माध्यमिक भंडारण [Secondary data storage]

यह सब भंडारण कंप्यूटर के साथ जुड़े नहीं होते लेकिन आपका डाटा स्टोर करने मे मदद करता है जैसे अपने  nata 2018 application form डाउनलोड तोह कर लिया अब इसको निकाले कैसे। इसके लिए ही Secondary storage का उपयोग किया जाता है।

माध्यमिक भंडारण [types of Secondary data storage] के प्रकार :

  • फ्लॉपी डिस्क जो की सबसे पहले इस्तेमाल किया जाता था और यह प्लास्टिक से बना होता है इसका निर्माण 1976 मे हुआ था। इसकी क्षमता तकरीबन 44 MB और 2.88 MB तक की होती है।
  • ऑप्टिकल डिस्क [OPTIACL DISC] जो की circular होती है। इसके दो प्रकार होते है CD जो की 700MB तक का डेटा स्टोर करने के काम आते है जैसे तस्वीर , डाक्यूमेंट्स फाइल्स और बाकी चीजे 700 mb से कम आकार की। DVD जो की आपका ज्यादा डाटा स्टोर करने मे मदद करते है जिसकी छमता 4 .7 GB से ज्यादा होती है।
  • Pen Drive जो की ज्यादा से ज्यादा जानकारी स्टोर करने के लिए इस्त्माल किया जाता है , इनकी छमता 2 जीबी , 4 जीबी, 8 जीबी, 16 जीबी, 32 जीबी, 64 जीबी, 128 जीबी है।

पेनड्राइव के ज़रिये आप डाटा कुछ समय के लिए अपने पास रख सकते [Temporary data storage] और डाटा अपने साथ लेके कही भी जा सकते है। डाटा एक सिस्टम से दूसरे मे भेज सकते। अपने साथ लेकर जा सकते है। इसमें से आप कभी भी डाटा हटा सकते है तथा दूसरा डेटा डाल सकते है। जगहा कम होने पर जो डाटा काम का नहीं है उसे हटा कर और डाटा भर सकते है।

  • क्लाउड स्टोरेज [Cloud storage] इसके ज़रिये अगर आपके सिस्टम मे कम जगह होने पर आप अपना डाटा ऑनलाइन सर्वर मे स्टोर कर रख सकते है और समय आने पर कभी भी वापस डाउनलोड कर सकते है। लेकिन इसके लिए आपको एक ऑनलाइन सर्वर पे अकाउंट होना ज़रूरी है।

guest post by:- getmyuni.com. अगर आपको india के best कॉलेज, courses तथा exams के बारें में जानना हो तो आप getmyuni.com में विजिट करके देख सकते है.

निवेदन:- आपको data storage की यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो मुझे comment के द्वारा बताइए तथा इसे अपने दोस्तों के साथ share करें. धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *