logical & physical address space in hindi (os)

Logical and physical address space in hindi (फिजिकल तथा लॉजिकल एड्रेस स्पेस):-

main memory में कोई भी लोकेशन एक एड्रेस के द्वारा uniquely identify की जाती है. इस एड्रेस को main memory(RAM) का physical address कहा जाता है.

वह एड्रेस जो सी.पी.यू. के द्वारा generate किया जाता है उसे logical address कहते है.

main memory में सभी logical address के समूह को logical address space कहते है.

सभी physical address के समूह को physical address space कहते है.

इन logical address को physical address में convert किया जाता है तथा वह प्रक्रिया जिसमें logical address को physical address में बदला जाता है memory mapping कहलाती है.

वह हार्डवेयर यूनिट जो logical address को physical address में बदलती है memory management unit(MMU) कहलाती है.

memory mapping की बहुत सारीं विधियाँ है लेकिन सबसे सरल विधि memory mapping के लिए relocation register का प्रयोग है. इसमें प्रोग्राम के base address को relocation register में लोड किया जाता है. logical address में relocation register की वैल्यू को add करके physical address को कैलकुलेट किया जाता है.

उदाहरण के लिए:- प्रोग्राम का base address 39000 है यदि प्रोग्राम में logical address 338 है तब logical address को base address में जोड़ देते है तो physical address 39338 generate होता है.

2 thoughts on “logical & physical address space in hindi (os)”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *