JSP Life Cycle in Hindi | JSP की लाइफ साइकिल

Hello दोस्तों! आज हम इस पोस्ट में JSP Life Cycle in Hindi (JSP लाइफ साइकिल क्या है?) के बारें में पूरे विस्तार से पढेंगे और इसके Phases को भी देखेंगे. आप इसे पूरा पढ़िए, आपको यह आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए start करते हैं:-

JSP Life Cycle in Hindi

एक JSP page किसी सामान्य web page की तरह process नहीं किया जाता है। एक JSP पेज client को show होने से पहले महत्वपूर्ण phases से गुजरता है। इन phases को JSP life cycle कहते है।

JSP life cycle एक JSP page के create होने से लेकर उसके destroy होने तक की process (प्रक्रिया) होती है।

जब भी client कोई request करता है तो web server फाइल के .jsp extension के माध्यम से पहचान लेता है कि ये एक JSP page के लिए request है। Client की request को process करने के लिए एक JSP page को servlet में convert करना अनिवार्य होता है।

JSP page की request प्राप्त होते ही इस पेज को JSP engine को भेज दिया जाता है। JSP engine इसे पहले एक servlet class में convert करता है और उसके बाद byte code में convert करता है।

इसके बाद file को memory में load कर दिया जाता है और फिर क्रमशः jspInit(), jspService() और jspDestroy() methods call किये जाते है।

अपनी life cycle में एक JSP page नीचे दी गयी 6 phases से गुजरता है।

  1. Translation
  2. Compilation
  3. Instantiation
  4. Initialization
  5. Servicing
  6. Destruction
JSP Life Cycle in Hindi

हर phase में JSP page के साथ कुछ processing की जाती है। आइये अब इन phases के बारे में detail से जानने का प्रयास करते है।

Translation Phase

यह JSP life cycle का पहला phase है। जैसा कि आपको पता है JSP page की request आने पर इस request को JSP engine को भेज दी जाती है। JSP engine पहले file में JSP syntax को check करता है यदि file सही है तो इसे servlet class में translate कर दिया जाता है।

JSP page को translate करने से पहले JSP engine यह check करता है कि JSP page में कोई changes (बदलाव) हुए है या नहीं। यदि कोई changes नहीं हुए है तो JSP engine इस phase को skip कर देता है।

Changes का पता लगाने के लिए JSP engine यह check करता है कि क्या servlet class, JSP page से पुरानी है. क्योंकि यदि कोई changes किये गए होंगे तो JSP page को नयी date के साथ save किया गया होगा। इससे JSP engine को पता चल जाता है की servlet class outdated है और इस page को वापस translate करना होगा।

Compilation Phase

JSP life cycle का दूसरा फेज compilation है। इस phase में translation phase के  द्वारा translate की गयी servlet class को compile किया जाता है। Compile किये जाने पर एक .class file जनरेट होती है। ये byte code होता है।

Instantiation Phase

Byte code के generate होने के बाद एक JSP पेज instantiation phase में आ जाता है। इस phase में .class file को memory में load किया जाता है। आसान शब्दों में कहें तो, “इस phase में .class file के object (instance) को create किया जाता है।“

Initialization Phase

Class के memory में load होने के बाद एक JSP पेज initialization phase में आ जाता है। इस phase में JSP engine द्वारा jspInit() method को call किया जाता है। इस method को page life cycle में सिर्फ एक ही बार call किया जाता है।

इस method में आप वह code लिखते है जिसे JSP page के show होने से पहले execute होना है। उदाहरण के लिए JSP page के show होने से पहले आप database से connection स्थापित कर सकते है। इस method के call होने के बाद ही एक वेब सर्वर response देना प्रारम्भ करता है।

इस method को programmers override भी कर सकते है। इसे override करके आप networks और database से सम्बन्धित resources को program में initialize कर सकते है।

इस method का general syntax नीचे दिया जा रहा है।

public void jspInit()
{
//code to be executed
}

Servicing Phase

Request को response देने के लिए JSP engine द्वारा _jspService() method call किया जाता है। यह मेथड JSP engine के container component द्वारा generate (उत्पन्न) किया जाता है।

इस method में शुरआती underscore (_) का मतलब होता है की आप इस method को override नहीं कर सकते है। आपके द्वारा लिखा गया JSP code इसी method में जाता है।

इस method का general syntax निचे दिया जा रहा है।

public void _jspService (HttpServlet request, HttpServlet response) throws IOException, ServletException
{
// JSP code that you write with some other code
}

Destruction

JSP life cycle का अंतिम फेज destruction है। इस phase में JSP engine द्वारा jspDestroy() method को call किया जाता है। यदि JSP page को हमने destroy करना है तो इस method को call किया जाता है। इस method के द्वारा सभी network और databases resources मुक्त (free) किये जाते है।

इस method के call होने के साथ ही एक JSP page की life cycle ख़त्म हो जाती है और page garbage collect हो जाता है। इस method को आप किसी दूसरी phase में भी call कर सकते है लेकिन इससे पहले _jspService() method जरूर call होता है।

इस method का general syntax नीचे दिया जा रहा है।

public void jspDestroy()
{
// code to be executed
}

इसे पढ़ें:- JSP Scripting Elements in Hindi

Reference:- https://www.geeksforgeeks.org/life-cycle-of-jsp/

निवेदन:- आपको JSP Life Cycle in Hindi की यह पोस्ट कैसी लगी आप हमें कमेंट के माध्यम से अवश्य बतायें। हमें आपके कमेंट्स का बेसब्री से इन्तजार रहता है। अगर आपका कोई सवाल या कोई suggestions है तो हमें बतायें हम उसको एक या दो दिन के अंदर यहाँ प्रकाशित करेंगे और हाँ पोस्ट को अपने friends और classmates के साथ share जरूर करें।

Leave a Comment