Modem in Hindi – मॉडेम क्या है और इसके प्रकार

हेल्लो दोस्तों! आज हम इस आर्टिकल में Modem in Hindi – (मॉडेम क्या है और इसके प्रकार) के बारें में पढेंगे. इसे बहुत ही आसान भाषा में लिखा गया है. इसे आप पूरा पढ़िए, यह आपको आसानी से समझ में आ जायेगा. तो चलिए शुरू करते हैं:-

Modem in Hindi – मॉडेम क्या है?

मॉडेम एक हार्डवेयर डिवाइस है जिसका उपयोग एक सिस्टम से दुसरे सिस्टम में संचार (communication) करने के लिए किया जाता है। यह डिवाइस सिस्टम में संचार करने के लिए telephone lines का प्रयोग करता है।

दुसरे शब्दो में कहे तो modem एक Input और output device है जिसका उपयोग टेलीफोन लाइन पर डेटा को एक डिवाइस से दुसरे डिवाइस में transfer करने के लिए किया जाता है।

यह डिवाइस digital signal को analog signal और analog signal को digital signal में कन्वर्ट करता है। इस डिवाइस का उपयोग इंटरनेट कनेक्शन को स्थापित (establish) करने के लिए किया जाता है।

इंटरनेट कनेक्शन को स्थापित (establish )करने के लिए modem का उपयोग इसलिए किया जाता है क्योकि इंटरनेट कंप्यूटर को analog signal भेजता है लेकिन कंप्यूटर केवल digital signal को समझ पाता है इसलिए मॉडेम का उपयोग करके analog signal को digital signal में कन्वर्ट कर दिया जाता है ताकि इंटरनेट कनेक्शन को स्थापित किया जा सके।

modem in hindi
मॉडेम का चित्र

Types of Modem in Hindi – मॉडेम के प्रकार

इसके निम्नलिखित प्रकार होते है जिन्हे निचे समझाया गया है:-

types of modem

1- External Modem

यह एक तरह का मॉडेम है, जिसे कंप्यूटर सिस्टम के बाहरी हिस्से में एक cable का उपयोग करके जोड़ा जाता है।

external modem को इनस्टॉल करना काफी आसान होता है और यह काफी तेज गति के साथ डेटा को ट्रांसफर कर सकता है।

इस मॉडेम को operate करने के लिए COM और USB पोर्ट की ज़रूरत पड़ती है और यह मॉडेम काफी expensive भी होता है।

2- Internal Modem

इस मॉडेम को on-board modem के नाम से भी जाना जाता है। Internal modem को सिस्टम के motherboard पर इनस्टॉल किया जाता है।

एक्सटर्नल मॉडेम की तुलना में इंटरनल मॉडेम को इनस्टॉल करना काफी मुश्किल होता है और इस मॉडेम में डेटा को ट्रांसफर करने की speed भी काफी धीमी होती है।

इस तरह के modem का उपयोग ज्यादातर घरो या छोटी जगहों पर किया जाता है।

3- Wireless Modem

यह modem cable के बिना सिस्टम के साथ connect होता है। सरल शब्दो में कहे तो वायरलेस मॉडेम को सिस्टम के साथ कनेक्ट करने के लिए किसी भी प्रकार की केबल की आवश्यकता नहीं पड़ती।

इस मॉडेम का उपयोग ज्यादातर लोगो के द्वारा personal use के लिए किया जाता है। यह मॉडेम डेटा को ट्रांसफर करने के लिए radio signal का उपयोग करता है और इसकी डेटा को ट्रांसफर करने की स्पीड भी तेज होती है।

4- Cable Modem

केबल मॉडेम को broadband device के नाम से भी जाना जाता है। इस मॉडेम को सिस्टम के साथ कनेक्ट करने के लिए केबल वायर का उपयोग किया जाता है।

इस मॉडेम का उपयोग ISP (Internet Service Provider ) के द्वारा किया जाता है।

यह सिस्टम को landline connection पर ISP (Internet Service Provider ) के साथ संचार (communication) करने में मदद करता है।

5- DSL Modem

DSL का पूरा नाम (digital subscriber line) है जिसमे टेलीफोन लाइन पर डेटा को ट्रांसफर किया जाता है।

यह मॉडेम डेटा को तेज गति के साथ ट्रांसफर कर सकता है इसलिए इस तरह के modem का उपयोग ज्यादातर office और घरो में किया जाता है।

यह दो प्रकार के होते है। ADSL modem और SDSL modem .

6- Satellite Modem

इस मॉडेम को internet connectivity पाने के लिए किसी प्रकार के टेलीफोन कनेक्शन का उपयोग नहीं करना पड़ता। यह मॉडेम काफी expensive होता है।

यह डेटा को ट्रांसफर करने के लिए satellite technology का प्रयोग करता है। DSL और Cable modem की तुलना में satellite modem तेज गति से डेटा को ट्रांसफर कर सकता है।

7- Half-duplex Modem

इस मॉडेम में डेटा को एक समय में केवल एक ही डायरेक्शन में ट्रांसफर किया जा सकता है।

8- Full-duplex Modem

इसमें डेटा को एक समय में दोनों दिशाओ में ट्रांसफर किया जा सकता है।

Functions of Modem in Hindi – मॉडेम के कार्य

1- मॉडेम बड़े साइज वाले डेटा को compress कर देता है जिसकी वजह से डेटा को ट्रांसफर करने में कम समय का वक़्त लगता है।
डेटा को छोटा यानी compress करने के लिए यह compression तकनीक का उपयोग करता है।

2- यह डेटा पर निगरानी रखता है जिसकी मदद से डेटा में error को detect करना आसान होता है। ऐसा करने के लिए modem डेटा को छोटे छोटे Units में डिवाइड कर देता है जिस प्रोसेस को Frames कहते है।

इसके बाद Checksum तकनीक का उपयोग करके सिस्टम में मौजूद डेटा को scan किया जाता है। यदि डेटा में किसी प्रकार के error को detect किया जाता है तो उस error को ठीक कर दिया जाता है इसके बाद डेटा को दुसरे डिवाइस में ट्रांसफर किया जाता है।

3- मॉडेम का मुख्य कार्य सिग्नल को कन्वर्ट करना होता है। यह digital signal को analog signal में और analog signal को digital signal में कन्वर्ट करता है।

4- यह डिवाइस डेटा के प्रवाह (flow) को control करता है। यह डेटा को अलग अलग प्रकार की speed से ट्रांसफर करता है। कुछ modem तेज गति से डेटा को ट्रांसफर करते है तो कुछ modem धीमी गति से डेटा को ट्रांसफर करते है।

ऐसी स्थिति में डेटा को नुकसान पहुंच सकता है इसलिए मॉडेम डेटा के प्रवाह (flow) को कण्ट्रोल करता है ताकि डेटा को नुकसान ना पहुंचे।

Advantages of Modem in Hindi – मॉडेम के फायदे

1- यह डिवाइस तेज गति से डेटा को ट्रांसफर करता है।

2- यह LAN (Local Area Network) को इंटरनेट से कनेक्ट करने में मदद करता है।

3- इस डिवाइस को इनस्टॉल करना आसान है।

4- केबल मॉडेम फाइलों को तेज गति से download करने में सक्षम होते है।

5- इस डिवाइस का उपयोग करके सिस्टम को इंटरनेट के साथ कनेक्ट किया जाता है।

6- यह डिवाइस fax संदेशो को तेज गति के साथ send और receive करता है।

7- यह डिवाइस आसानी से मार्किट में मिल जाते है।

Disadvantages of Modem in Hindi – मॉडेम के नुकसान

1- modem का उपयोग करने से malware जैसे वायरस सिस्टम में प्रवेश कर सकते है और hackers के द्वारा भी डेटा और फाइलों को नुकसान पहुंचाया जा सकता है।

2- इन devices में ट्रैफिक को maintain करना मुश्किल होता है।

3- इसका Dial UP Connection काफी धीमा होता है जिसकी वजह से telephone line पर कॉल करते समय यूजर का कॉल disconnect हो जाता है।

4- यदि इस डिवाइस fibre optic cable का इस्तेमाल नहीं किया जाता तो यूजर को slow इंटरनेट स्पीड जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

5- यह काफी expensive डिवाइस होते है।

Difference between Modem & Router – मॉडेम और राऊटर में अंतर्

ModemRouter
मॉडेम एक ऐसा डिवाइस होता है जो इलेक्ट्रिक सिग्नल को modulate और demodulate करता है।यह एक नेटवर्किंग डिवाइस होता है जो devices को वायर्ड और वायरलेस नेटवर्क के साथ जोड़ता है।
यह OSI मॉडल के डेटा लिंक लेयर पर काम करता है।यह OSI model के फिजिकल, डेटा-लिंक और नेटवर्क लेयर्स पर काम करता है।
यह डिवाइस बिना किसी authentication के डेटा को ट्रांसफर करता है इसलिए यह सुरक्षित नहीं है।यह लॉगिन आईडी और पासवर्ड का उपयोग करता इसलिए यह एक सुरक्षित डिवाइस है।
इसका इस्तेमाल RJ45 router से कनेक्ट और RJ11 टेलीफोन लाइनों से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है।इसका इस्तेमाल RJ45 टेलीफोन लाइन से कनेक्ट करने के लिए किया जाता है।
मॉडेम को टेलीफोन लाइन और कंप्यूटर के बिच में रखा जाता है।राऊटर को मॉडेम और नेटवर्किंग डिवाइस के बिच में रखा जाता है।
modem को केवल एक डिवाइस के साथ कनेक्ट किया जा सकता है।ethernet cable और Wi-Fi का उपयोग करके router को multiple device के साथ कनेक्ट किया जा सकता है।
यह सिस्टम को ISP के साथ जोड़ने के लिए दो पोर्ट का इस्तेमाल करता है।यह सिस्टम को इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करने के लिए दो से चार पोर्ट का इस्तेमाल करता है।

How Modem work in Hindi – मॉडेम काम कैसे करता है?

एक modem में दो प्रकार के plug होते है पहला प्लग सिस्टम केबल वायर के साथ कनेक्ट होता है और दूसरा प्लग सिस्टम को WiFi router के साथ कनेक्ट करता है।

मॉडेम का मुख्य कार्य signals को कन्वर्ट करना होता है ताकि डेटा को ट्रांसफर किया जा सके। यह digital signal को analog signal में और analog signal को digital signal में कन्वर्ट करता है।

इसके बाद यह डिवाइस टेलीफोन लाइनों की मदद से डेटा को एक डिवाइस से दुसरे डिवाइस में ट्रांसफर करता है। signal को कन्वर्ट करने की प्रक्रिया को modulate और demodulate भी कहा जाता है।

Exam में पूछे जाने वाले प्रश्न

मॉडेम क्या है?

मॉडेम एक हार्डवेयर डिवाइस है जिसका उपयोग एक सिस्टम से दुसरे सिस्टम में संचार (communication) करने के लिए किया जाता है।

मॉडेम का मुख्य कार्य क्या है?

मॉडेम का मुख्य कार्य signals को कन्वर्ट करना होता है ताकि डेटा को ट्रांसफर किया जा सके।

Reference:https://www.computerhope.com/jargon/m/modem.htm

निवेदन:- अगर आपके लिए Modem in Hindi – (मॉडेम क्या है और इसके प्रकार) का यह पोस्ट उपयोगी रहा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य share कीजिये. और आपके जो भी questions हो उन्हें नीचे comment करके बताइए. धन्यवाद.

2 thoughts on “Modem in Hindi – मॉडेम क्या है और इसके प्रकार”

Leave a Comment